भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश के विभिन्‍न हिस्‍सों में अमूमन 15 नवंबर के आसपास ठंड जोर पकड़ने लगती है। इस बार नवंबर की शुरूआत में ही लगातार सर्द हवाएं चलने से रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला भी शुरू हो गया था। उम्मीद थी कि नवंबर के अंतिम सप्ताह तक कड़ाके की ठंड शुरू हो जाएगी, लेकिन हाल ही हवाओं के लगातार परिवर्तनशील होने के कारण न्यूनतम तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हो रही है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक नवंबर के अंत तक दिन और रात के तापमान में उतार-चढ़ाव का सिलसिला बना रहने की उम्मीद है। अब दिसंबर में ही कड़ाके की ठंड पड़ने की संभावना है।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्‍ठ विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि गुरुवार को राजधानी भोपाल का अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से एक डिग्री सेल्‍सियस अधिक रहा। साथ ही बुधवार के अधिकतम तापमान (31.1 डिग्री सेल्‍सियस) की तुलना में 1.5 डिग्री सेल्‍सियस कम रहा। साहा ने बताया कि नवंबर के पहले दो सप्ताह में उत्तरी हवाएं चलने के कारण न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट बनी रही। 12 नवंबर को न्यूनतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। जो इस सीजन का सबसे कम तापमान था। इसके बाद हवाओं का रुख लगातार परिवर्तनशील बना रहने के कारण रात के तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हो पा रही है। वर्तमान में भी निचले स्तर पर तो हवाओं का रुख उत्तरी बना हुआ है, लेकिन ऊपर के स्तर पर पूर्वी हवा चलने की वजह से न्यूनतम तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हो पा रही है। उधर 29 नवंबर को बंगाल की खाड़ी में अंडमान के पास एक कम दबाव का क्षेत्र के बनने के संकेत हैं। इस सिस्टम के आगे बढ़ने से एक-दो दिसंबर के आसपास कुछ बादल भी छाने के आसार हैं। बादल छंटने के बाद न्यूनतम तापमान में तेजी से गिरावट होने की उम्मीद है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local