- बोर्ड ने जारी की पालकी एवं खच्चर से यात्रा करने की दरें

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने पालकी, घोड़ा (खच्चर) से यात्रा के किराए की घोषणा कर दी है। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष पालकी और घोड़ा की सवारी यात्रा करना महंगा पड़ेगा। हेलीकॉप्टर की यात्रा के बाद पालकी यात्रा में दो हजार व घोड़ा की सवारी यात्रा में 300 रुपए तक की वृद्धि की है।

बोर्ड ने मौसम के चलते यात्रा को लेकर स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा है कि खराब मौसम में भी यात्रा जारी रहेगी। एक जुलाई से शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा के लिए प्रदेश के 4000 से अधिक श्रद्धालु रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। ओम शिव शक्ति सेवा मंडल के सचिव रिंकू भटेजा ने बताया कि 01 जुलाई से 15 अगस्त यानि 46 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा के लिए श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड द्वारा खच्चर एवं पालकी की दरों में वृद्घि की गई है। उन्होंने बताया कि श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने इस साल यात्रा परमिट एवं हेलीकॉप्टर के किराए में पहले ही वृद्घि कर चुका है। अब खच्चर एवं पालकी के रेट बढ़ाने से अमरनाथ यात्रियों पर अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ेगा।

मंडल ने किया विरोध, लिखा पत्र

श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड की ओर से यात्रा को लेकर बढ़ाए गए किराए का ओम शिव शक्ति सेवा मंडल ने विरोध किया। रिंकू भटेजा ने बताया कि इस संबंध श्राइन बोर्ड को एक पत्र लिखकर बढ़ा हुआ किराया वापिस लिए जाने की मांग की है। विरोध करने वालों में राजकुमार शर्मा, प्रदीप सोनी, गुड्डू अग्रवाल, गजेंद्र ठाकुर, योगेश श्रीवास्तव, बृजेश पाठक, अरुण तिवारी, मनोज पांडे, मोनू चौरसिया, मनीष पवासे, कृष्णा बघेल, राज नारायण पटेल, ललित जोशी, जेपी शर्मा, राजकुमार रघुवंशी आदि मंडल सदस्य शामिल हैं।

इन रास्तों से कर सकेंगे बढ़े हुए दामों में यात्रा

- खच्चर की दर बालटाल से भवन एवं वापस बालटाल के किराए की दर 4150 रुपए व इसी मार्ग से पालकी का किराया 15000 रुपए तय किया गया है। जबकि पिछले वर्ष खच्चर का किराए की दर 3900 रुपए एवं पालकी के किराए की दर 14000 रुपए निर्धारित थी।

- चंदनबाड़ी से भवन एवं वापस चंदनवाड़ी के खच्चर का किराया 6000 रुपए एवं पालकी के किराए की दर 24,000 रुपए चुकाना होगा। जबकि पिछले वर्ष खच्चर का किराया 5700 रुपए एवं पालकी का किराए की दर 22,000 निर्धारित थी।

Posted By: Nai Dunia News Network