OBC Mahasabha Protest in Bhopal: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। पिछड़ा वर्ग में आने वाली जातियों के लोगों को शासकीय नौकरियों व नीट सहित अन्‍य प्रतियोगी परीक्षाओं में 51 फीसद आरक्षण दिए जाने की मांग एक बार फिर उठने लगी है। बुधवार दोपहर को राजधानी भोपाल में सेकंड नंबर बस स्‍टॉप स्‍थित आंबेडकर पार्क में ओबीसी महासभा के नेतृत्व में 42 अलग-अलग संगठनों के 200 से अधिक प्रतिनिधि आरक्षण की मांग को लेकर एकित्रत हुए। महासभा से जुड़े कार्यकर्ता आरक्षण की मांग को लेकर मुख्यमंत्री निवास का घेरवा करने नारेबाजी करते हुए निकले ही थे कि पुलिस ने सेकंड नंबर स्टाप मार्केट पर बैरिकेड्स लगाकर रोक दिया। आंडेकर पार्क के चारों तरफ के रास्ते बंद कर दिए। कलेक्टर अविनाश लवानिया और डीआइजी इरशाद वली ने ओबीसी महासभा के कार्यक्रर्ताओं को आगे नहीं बढ़ने दिया। प्रदर्शन समाप्त करने की बात कही। लेकिन ओबीसी महासभा के कार्यकर्ता मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने पर अड़े रहे। इस दौरान कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच बहस हुई। बात झूमाझटकी पर पहुंच गई। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

डीआइजी का कहना कि पुलिस शांतिपूर्वक कार्यकर्ताओं को रोक रही थी। कार्यकर्ताओं ने पुलिस से अभद्रता की। मारपीट की कोशिश की। कार्यकर्ता पुलिस के गाडि़यों के सामने लेट गए। जिससे पुलिस को लोगों को गिरफ्तार किया गया। वहीं ओबीसी महासभा के पदाधिकारियों व सदस्यों का कहना है कि पुलिस ने ओबीसी महासभा के कार्यकर्ताओं को बलपूर्वक खदेड़ा, डंडे बरसाए, जिससे 17 कार्यकर्ता घायल हो गए।

ओबीसी महासभा के राष्ट्रीय कोर कमेटी के सदस्य विजय कुमार ने बताया कि कमल नाथ सरकार ने ओबीसी के लोगों को 27 फीसदी आरक्षण दिया था, लेकिन आरक्षण लागू नहीं हो सका। अभी सिर्फ 14 फीसद आरक्षण मिलता है। भाजपा सरकार आरक्षण लागू नहीं कराना चाह रही। जिन संगठनों ने हाईकोर्ट में आपत्ति लगाई थी, उसके विरोध में सरकार अपना पक्ष कोर्ट के समक्ष नहीं रख सकी। ओबीसी महासभा ने पूर्व में आंदोलन की चेतावनी दी थी। अब जल्द ही आरक्षण लागू नहीं किया तो हर जिले व तहसील स्तर पर प्रदर्शन किए जाएंगे।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local