लाट साहब : कोरोना संक्रमण काल में राजधानी के अफसर वरिष्ठ अधिकारियों के सामने खुद ही मियां मिट्ठू बन रहे हैं। इसके लिए हर छोटे-छोटे काम की एक नहीं, बल्कि 10-10 फोटो खींचकर या खिंचवाकर वरिष्ठ अधिकारियों वाले वाट्सएप समूह पर भेज रहे है। हैरत की बात तो यह है कि वरिष्ठ अधिकारी ने कई दफे अफसरों को समझाइश दी कि वे एक या दो ही फोटोग्राफ्स डालें, लेकिन अफसर हैं कि मानने को तैयार ही नहीं। इस आदत से परेशान होकर वरिष्ठ अधिकारी ने संबंधित वाटसएप समूह को अन्य अफसरों के लिए लॉक कर दिया। अब इस समूह पे सिर्फ अधिकारी ही कोई घटनाक्रम शेयर कर सकते है। आलम यह रहा कि एक समूह में लॉक होने के बाद इन अफसरों ने कनिष्ठ अफसरों वाले ग्रुप में अपनी वाहवाही वाले फोटो डालना शुरू कर दिए। इस ग्रुप में आए फोटोग्राफ्स से अब कनिष्ठ अफसर भी परेशान होने लगे है।

मंत्री को इंप्रेस करने कर रहे तमाम जतन

राजधानी में मंत्री जी और एक अधिकारी के किस्से इन दिनों जिला प्रशासन के गलियारों में खूब गूंज रहे है। दरअसल, मामला कुछ यूं है कि एक अधिकारी शहर में ऐसे हैं, जो इन दिनों मंत्री को इंप्रेस करने के लिए तमाम तरह के जतन कर रहे है। फिर चाहे दिनभर बंगले में चाकरी करने की बात हो यह फिर फील्ड में मंत्री के आगे-पीछे घूमने की। ये साहब हर मामले में अपने आप को अव्वल साबित करने में लगे हुए हैं। सरकार बदलने पर साहब के सुर बदलते हैं। मंत्री जी होम आइसोलेशन वाले मरीजों से बातचीत करने पहुंचे तो ये अफसर सामने-सामने जाकर उनके नाम और नंबर नोट करने में लग गए। मंत्री जी बैठक में जाएं तो ये अफसर भी पीछे-पीछे जाने से नहीं चूक रहे। दौरा करने जब मंत्री जाएं तो मौके पर पहले उपस्थित होना इन साहब की खूबी में से एक है।

आशंका जताकर कर दिया फेमस

राजधानी में विगत दिनों एक समुदाय विशेष के प्रतिनिधि की मौत हुई। इस मौत को अफसरों ने अपनी पोस्टिंग बचाने के लिए खूब भुनाया। शहर में कोई भीड एकत्रित होने की आशंका नहीं थी, इसके बावजूद समुदाय विशेष के अफसर ने पूरी स्‍क्रिप्‍ट लिखकर पुराने शहर को लॉक करवा दिया। वहीं इंटरनेट मीडिया के माध्यम से मैसेज प्रसारित किया कि अनावश्यक भीड एकत्रित न करें, जबकि इसी समुदाय के लोगों का कहना था कि जिस तरह से यह तैयारियां की गई हैं, उतने लोग एकत्रित ही नहीं होने वाले थे। बताया तो यह भी जा रहा है कि इन साहब ने ही विगत वर्ष माहौल बनाकर इकबाल मैदान में भीड एकत्रित करने की भी स्‍क्रिप्‍ट तैयार की थी। अब ये साहब एक सर्किल में अपने अपने चेहेते साहब के साथ मिलकर इस बार भी अनावश्यक रूप से तैयारी करने के मामले में चर्चा का विषय तो बन ही गए है।

छोटे काम की बडी तैयारियां

शहर के दो सर्किलों में पदस्थ अधिकारी इन दिनों एक वरिष्ठ अफसर से काफी परेशान हैं। हर छोटे-छोटे कामों के लिए ये वरिष्ठ अफसर इन अधिकारियों को बडा टास्क होने की बात कहकर दिनभर व्यस्त रखते है। इन साहब के बारे में बताया जा रहा है कि दोनों अधिकारी इतने परेशान हो गए हैं कि वे अब अपना स्थानांतरण भोपाल से अन्यत्र कराने की फिराक में हैं। वह भी सिर्फ इसलिए कि एयरपोर्ट से इंजेक्शन लाना हो या फिर ऑक्सीजन के टैंकर विमान में लोड कराना हो, वरिष्ठ अफसर इन अधिकारियों की ड्यूटी सबसे पहले लगाते है। दोनों अधिकारियों में से एक अधिकारी तो ऐसे हैं, जिन्हें समय ही नहीं मिल पा रहा है कि अपने सर्किल से संबंधित काम कर सकें। विगत दिनों वरिष्ठ अफसर द्वारा लोगों को अस्पताल में भर्ती कराने का जिम्मा और वहां पूरी व्यवस्थाएं कराने की जिम्मेदारी भी इन पर लाद दी थी।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags