भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। आज से ठीक एक साल पहले यानी 16 जनवरी 2021 को प्रदेश में कोरोनारोधी टीका लगाने की शुरुआत हुई थी। कोरोना टीकाकरण अभियान की सफलता और इसका एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11 बजे राजधानी के जेपी अस्पताल पहुंचे। यहां उनकी मौजूदगी में दो स्वास्थ्यकर्मियों को सतर्कता डोज लगाई गई। इनमें जेपी अस्पताल का सुरक्षाकर्मी हरदेव सिंह यादव और हमीदिया अस्पताल का एक कर्मचारी शामिल है। पिछले साल 16 जनवरी को हरदेव को जेपी अस्पताल में और दूसरे कर्मचारी को हमीदिया में पहला टीका लगाया गया था। इसके बाद दूसरे कर्मचारियों का टीकाकरण शुरू हुआ था।

जेपी अस्‍पताल में इस अवसर पर मुख्‍यमंत्री शिवराज ने कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में हमारे लिए गर्व और स्वाभिमान का दिन है और यह गौरव का दिन दिखाया है हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने। पिछले साल आज ही के दिन विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान प्रारंभ हुआ था। पहले भी महामारी आती थी। अन्य देशों में बनी वैक्सीन का ही सहारा होता था। दूसरे देशों में निर्मित वैक्सीन पर भारत को निर्भर रहना पड़ता था। इस बार बहुत कम अवधि में भारत में वैक्सीन के निर्माण और उसके उपयोग का कार्य प्रारंभ हो गया।

मुख्यमंत्री शिवराज ने देशवासियों को मुफ्त वैक्‍सीन उपलब्‍ध करवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया। इसके साथ ही वैक्‍सीन बनाने वाले वैज्ञानिकों के अलावा डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को भी धन्यवाद देते हुए उनका अभिनंदन किया। मुख्‍यमंत्री ने इस अवसर पर कोरोना की तीसरी लहर को लेकर प्रदेशवासियों को फिर सचेत किया और कहा कि कोविड अनुकूल व्यवहार रखकर ही तीसरी लहर में संक्रमण से बच सकते हैं। वैक्सीन के सुरक्षा चक्र का लाभ लेने के साथ ही सभी सावधानियों के पालन भी करें। अनुरोध है कि टीकाकरण कार्य में सभी राजनीतिक दल, धर्मगुरु प्रत्येक स्तर के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य सहयोग करें।

यहां पर यह बता दें कि भोपाल में अब तक 98 फीसद लोगों को दोनों डोज लग चुकी हैं। हर दिन करीब 6000 कर्मचारियों को सतर्कता डोज लग रही है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local