भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। शहर के बावड़िया कला जिनालय में भगवान वासुपूज्य की आराधना की जा रही है। श्रद्धालु नवकार महामंत्र और भक्तांबर का वाचन कर रहे हैं। जिनालय में आचार्य सौरभ सागर महाराज के सानिध्य में अष्ट द्रव्य से कल्याण मंदिर विधान में भगवान वासुपूज्य स्वामी की आराधना की जा रही है। श्रद्धालुओं ने इंद्र-इंद्रियों का वेश धारण कर भगवान का अभिषेक कर रहे हैं। जगत कल्याण की भावना को लेकर मंत्रोच्चार शांतिधारा की जा रही है। श्रद्धालुओं ने विधि विधान से मंडल पर अघ्र्य समर्पित करते हैं। वहीं आचार्य सौरभ सागर महाराज प्रवचन देकर श्रद्धालुओं को जैन धर्म के बारे में बता रहे हैं। उनका कहना है कि जीवन की दशा और दिशा स्वयं के विवेक से किए गए कार्यों पर निर्भर रहती हैं। संसारी जीव जगत को सुधारने में लगा रहता है और जगत को निहारता रहता है। यदि स्वयं को एक पल भी अच्छे से निहार और स्वयं को समझ लेगा तो कल्याण निश्चित है। जीवन की जीवन शैली ऐसी होनी चाहिए कि संसार में कुछ भी होता रहे पर तुम्हारे भीतर आत्म संतुष्टि सदा बनी रहे। इसके लिए आत्म साधना आवश्यक है। प्रवचन सुनने मंदिर समिति के अध्यक्ष शशि टोंग्या, दिगंबर जैन पंचायत कमेटी के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद हिमांशु, सचिव राजेन्द्र जैन, उपाध्यक्ष महेंद्र जैन, कार्यकारिणी सदस्य, अनीता जैन, युवा वर्ग से शशांक जैन, अभिराज जैन, मनीष जैन सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु आ रहे हैं। दिगंबर पंचायत समिति ट्रस्ट के मीडिया प्रभारी अंशुल जैन ने बताया धार्मिक अनुष्ठान के साथ कल्याण मंदिर विधान में 24 तीर्थंकर स्वामी का स्मरण कर अष्ट द्रव्य समर्पित किए जा रहे है। अभी रोजाना धार्मिक अनुष्ठान चलेंगे। जल्द नए स्थल पर जिनालय का निर्माण किया जाएगा।

350 महिलाओं को निश्शुल्क गिरिराज जी का परिक्रमा कराई जाएगी

नरेला विधानसभा में निश्शुल्क ब्रज दर्शन एवं गिरिराज जी की परिक्रमा के चौथा चरण शुरू हो गया है। प्रदेश कांग्रेस के सचिव मनोज शुक्ला ने क्षेत्र के लोगों को यात्रा के पास वितरित किए जा रहे हैं। माताओं-बहनों से यात्रा संबंधित चर्चा की व माताओं बहनों को साड़ी, मिठाई एवं राधा कृष्ण की तस्वीर देकर सम्मानित किया गया है। निश्शुल्क ब्रज दर्शन एवं गिरिराज जी की परिक्रमा का चौथा चरण 26 मई को शुरू होगा। इस बार 350 चयनित माताओं व बहनों को गिरिराज परिक्रमा कराई जाएगी।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close