Bhopal Health News: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी भोपाल में स्थित सरकारी होम्योपैथी कॉलेज में ओपीडी की सुविधा पूरी क्षमता के साथ पुन: शुरू की जाएगी। इस दौरान कोरोना से बचाव के पूरे इंतजाम किए जाएंगे। ओपीडी में एक साथ मरीजों की ज्यादा भीड़ न हो, इसलिए चिकित्सकों के चेंबर दूर-दूर किए जाएंगे। मरीजों के लिए मास्क अनिवार्य होगा। ओपीडी शुरू करने के निर्देश संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने सोमवार को कॉलेज के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में दिए हैं। कॉलेज के प्राचार्य डॉ एसके मिश्रा ने बताया कि अस्पताल को कोविड केयर केंद्र बनाने की वजह से ओपीडी सुविधा बंद कर दी गई थी। कोरोना के मरीज कम होने के बाद फिर से ओपीडी शुरू तो कर दी गई थी, पर सीमित संख्या में मरीजों को देखा जा रहा था। अब जल्‍द पहले की तरह फिर ओपीडी व जांच की सुविधाएं शुरू हो सकेंगी।

बैठक में 187 करोड रुपए से प्रदेश के 27 जिलों में सिकल सेल एनीमिया और थैलेसीमिया बीमारी की जांच के लिए भारत सरकार से मिले प्रोजेक्ट पर भी चर्चा की गई। खासकर आदिवासियों में पाई जाने वाली इन दोनों बीमारियों की जांच इस प्रोजेक्ट में की जानी है। पांच साल तक यह प्रोजेक्ट चलेगा। हालांकि, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अधिकारी इस प्रोजेक्ट में साथ काम करने की सलाह दे रहे हैं। उनका कहना है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के पास पर्याप्त अमला है, जिससे प्रोजेक्ट अच्छी तरह से किया जा सकेगा।

कक्षाएं शुरू करने को लेकर नहीं हुआ कोई निर्णय

कॉलेज के प्राचार्य डॉ मिश्रा ने बताया कि यूजी और पीजी की कक्षाएं शुरू करने को लेकर बैठक में कोई निर्णय नहीं हो पाया है। इसके अलावा छात्रावास खोलने का फैसला भी अभी नहीं लिया गया है। संभागायुक्त कियावत ने कहा है कि इस संबंध में मध्य प्रदेश मेडिकल यूनिवर्सिटी और केंद्रीय आयुष मंत्रालय से राय ली जानी चाहिए। इसके बाद ही कक्षाएं शुरू की जाएं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local