भोपाल। प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में काम करने वाले 38 कर्मचारियों को दीपावली का बोनस नहीं बंटा गया। मंगलवार को दिनभर कर्मचारी इसके इंतजार में बैठे रहे। बोनस नहीं मिलने से कर्मचारियों में खासी नाराजगी रही। बोनस देने के मामले में वैधानिक कार्रवाई पूरी नहीं होने से मामला अटक गया है। दो दिन बाद बोनस बांट दिया जाए। सूत्रों के मुताबिक प्रदेश कार्यालय के मासिक खर्च के लिए केंद्रीय संगठन सात लाख रुपए महीना देता है। इसमें साढ़े तीन लाख रुपए से ज्यादा वेतन में चले जाते हैं। संगठन को इसके अलावा भोपाल के रोशनपुरा चौराहे स्थित जवाहर भवन से किराए के रूप में सवा लाख रुपए की आय होती है।

ये रकम जवाहर भवन ट्रस्ट के खाते में जमा रहती है और कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा की सहमति से जरूरत पड़ने पर ट्रस्ट से राशि उधार ले ली जाती है। बोनस के रूप में कर्मचारियों को एक माह का वेतन दिया जाता है। इस बार कर्मचारियों को एक जोड़ी वर्दी और कंबल दीपावली के पहले दिए गए हैं। उपचुनाव के चलते बोनस संबंधी कार्यालयीन प्रक्रिया समय पर पूरी नहीं हो पाई, इसलिए वितरण में विलंब हो गया। पार्टी के प्रभारी संगठन महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी का कहना है कि कार्यालय में काम करने वाले सभी कर्मचारी हमारे परिवार का हिस्सा हैं। हम सब सुख-दुख के साथी हैं। वैसे तो ये परिवार का मामला है पर बोनस वितरण को लेकर किसी को शंका नहीं होनी चाहिए। दो दिन बाद बोनस बांट दिया जाएगा। जहां तक माली स्थिति का सवाल है तो पार्टी हर तरह से सक्षम है।