भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। पूरे प्रदेश्ा में पैरामेडिकल के अलग-अलग पाठ्यक्रम में पढ़ाई कर हरे प्रदेश के 25 हजार छात्रों की दो साल से परीक्षा नहीं हुई है। इस कारण्ा उनका साल बेकार जा रहा है। इससे गुस्साए छात्रों ने गुरुवार को हफ्ते में दूसरी बार भोपाल में माता मंदिर के पास स्थित पैरामेडिकल काउंसिल के कार्यालय में प्रदर्शन किया। प्रदेश्ा भर से करीब 1200 छात्र प्रदर्शन में शामिल हुए। सुबह 11 बजे से उन्होंने प्रदर्शन और नारेबाजी की। शाम पांच बजे के करीब टीटी नगर पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को खदेड़ा। विरोध कर रहे 50 छात्रों को गिरफ्तार भी किया गया था, जिन्हें बाद में छोेड़ दिया गया।

छात्रों ने बताया कि काउंसिल ने पहले तो कोरोना का बहाना कर परीक्षा कराने से मना कर दिया। अब कोरोना संक्रमण बहुत कम हो गया है। इसके बाद भी परीक्षा नहीं कराई जा रही है। छात्रों के हाथ से नौकरियों के कई अवसर निकलते जा रहे हैंं। उन्होंने बताया कि रजिस्ट्रार पूजा शुक्ला ने परीक्षा कराने से हाथ खड़े कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री के पास फाइल भ्ोजी गई है। उनकी मंजूरी के बाद ही परीक्षा हो सकेगी। प्रदर्शन करने वालों में ओटी टेक्नीशियन, फिजियोथेरेपिस्ट, लैब टेक्नीशियन, नेत्र सहायक समेत कई कोर्स के विद्यार्थी शामिल हैं। छात्रों ने बताया कि सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि चिकित्सा विश्वविद्यालय में परीक्षा के बाद रिजल्ट जारी होने में करीब आठ महीने लग जाते हैं। ऐसे में उनका दो साल का कोर्स चार साल में भ्ाी नहीं हो पाएगा। विद्यार्थियों ने कहा कि सरकार परीक्षा नहीं करा सकती तो जनरल प्रमोशन देना चाहिए।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local