भोपाल (नवदुनिया प्रतिनधि)। भोपाल समेत प्रदेश भर में कोरोना के मरीज कम हो रहे हैं। इसे देखते हुए शासन ने निश्शुल्क इलाज के लिए राजधानी भोपाल में अनुबंधित चिरायु और एलएन मेडिकल कॉलेज में कोरोना मरीजों के लिए बिस्तर कम करने की तैयारी की है। एक फरवरी से दोनों अस्पतालों में मौजूदा बिस्तर संख्या से आधे बिस्तर करने की योजना है। चिरायु अस्पताल में अभी 750 और जेके अस्पताल (एलएन मेडिकल कॉलेज) में 200 बिस्तर कोरोना के लिए आरक्षित हैं। इनमें सामान्य, आइसीयू और अलग-अलग श्रेणी के बिस्तर हैं।

आयुष्मान भारत योजना के मुताबिक तय पैकेज के तहत सरकार इन अस्पतालों में मरीजों का इलाज कराती है। मरीज से इलाज का खर्च नहीं लिया जाता है। चिन्हित अस्पतालों में अनुबंधित बिस्तरों के 60 फीसद बेड का आयुष्मान योजना के तहत सरकार को हर हाल में भुगतान करना है। मरीज भले ही कम हों। भोपाल में हर दिन सौ से कम मरीज मिल रहे हैं। इनमें 60 से 70 फीसद होम आइसोलेशन में रहते हैं। बाकी मरीज सरकारी व निजी अस्पतालों में इलाज कराते हैं। आयुष्मान भारत योजना के तहत चिन्हित मरीजों के इलाज की सुविधा इस योजना में शामिल निजी अस्पतालों में भी है।

चिरायु अस्पताल में अनुबंधित 750 बिस्तरों में से 162 मरीज सामान्य वार्ड में और 27 आइसीयू में भर्ती हैं।

इसी तरह से जेके अस्पताल में अनुबंधित 200 बिस्तर में से 37 मरीज सामान्य वार्ड में और 26 आइसीयू में हैं। यह जानकारी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के कोविड पोर्टल के अनुसार है। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कहा कि मरीजों की संख्या लगातार कम होने का अनुमान है, इसलिए बिस्तर कम किए जाएंगे। मरीज बढ़ने पर बिस्तर फिर बढ़ाए जा सकेंगे।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags