भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। संभाग में अवैध शराब के निर्माण, परिवहन और बिक्री पर तत्काल रोक लगाई जाए। इसके लिए मजबूत सूचना तंत्र विकसित करें, ताकि आगे से ऐसी गतिविधियों पर रोक लग सके। यह निर्देश बुधवार को संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने संभाग के सभी जिला कलेक्टर और एसपी को वीडिया कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिए। उन्होंने कहा कि गांव और शहरों में सूचना तंत्र को मजबूत करें। स्थानीय स्तर पर बनने वाली शराब पर रोक लगाएं। कई ट्रक वाले अमानक शराब और औद्योगिक अल्कोहल भी रास्तों में बेच सकते हैं, इसलिए वरिष्ठ अधिकारी स्वयं निगरानी रखें। बैठक में आइजी उपेंद्र जैन के अलावा होशंगाबाद के आइजी जितेंद्र राजे, डीआइजी और आबकारी आयुक्त विनोद रघुवंशी भी मौजूद थे।

रासुका के तहत करें कार्रवाई

बैठक में आइजी उपेंद्र जैन ने पुलिस अधीक्षकों और आबकारी अमले से कहा कि अब ठोस कार्रवाई करके दिखाएं। इसके लिए पुख्‍ता व्यवस्था बनाएं। कलेक्टर और एसपी संयुक्त भ्रमण करें। आबकारी, पुलिस और राजस्व की टीम संयुक्त रूप से अवैध शराब वाले संभावित स्थलों को नेस्तनाबूद कर इन गतिविधियों में शामिल व्यक्तियों के विरुद्ध आपराधिक मामले दर्ज करें, ताकि अपराधियों को अधिकतम सजा के प्रावधान हों। अवैध शराब के बड़े मामलों में रासुका के तहत कार्रवाई भी की जाए।

फैक्ट्री के वाहनों पर पहचान प्रदर्शित हो

संभागायुक्त ने कहा कि शराब निर्माता कंपनियों के जिन ट्रकों से स्प्रिट आदि आती है, उनकी पहचान के लिए अलग रंग तय करें। यही नहीं उन पर लिखा जाए कि वे क्या परिवहन कर रहे हैं? ताकि फैक्ट्री से शराब परिवहन के ट्रक की अलग से पहचान हो सके।

आबकारी अमले को करें सक्रिय

संभागायुक्त ने कहा कि शराब फैक्ट्री और डिपो दोनों जगहों पर 24 घंटे आबकारी अमला रहता है। उनकी जिम्मेदारी है कि वह अवैध ब्रांडेड और कच्ची शराब का परिवहन न होने दें। फील्ड में आबकारी अमले को उतारें और किसी भी जिले में अवैध कच्ची देशी और विदेशी शराब की हर गतिविधि को तत्काल रोकें।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस