भोपाल। हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म और ट्रेन के कोच के बीच गैप बढ़ गया है। यह प्लेटफार्मों के जगह-जगह से टूटने के कारण बढ़ा है। इस कारण ही शनिवार को प्लेटफार्म-4 पर एक युवक पंजाब मेल एक्सप्रेस में चढ़ते समय पटरी पर गिर गया था। उसके दोनों पैर जांघ के पास से कट गए थे और उसकी मौत हो गई थी। वहीं चौबीस घंटे बाद भी रविवार शाम तक इसमें सुधार करने के बजाय जीआरपी और रेलवे के अफसरों ने संज्ञान नहीं लिया है। हर बार की तरह वे इस घटना को भी यात्रियों की भूल से जोड़कर सामान्य बता रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक प्लेटफार्म और ट्रेन के कोच के बीच एक निर्धारित गैप होता है, ताकि ट्रेन में चढ़ते-उतरते समय यात्री दुर्घटना का शिकार न हों। हबीबगंज रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्मों की डिजाइन की भी इस तरह की गई थी, लेकिन स्टेशन को वर्ल्ड क्लास बनाने के काम चलते प्लेटफार्म जगह-जगह से टूट गए हैं, कई जगह टाइल्स उखड़ीं हैं। इसके कारण कोच और प्लेटफार्म के बीच गैप बढ़ा है। शनिवार को प्लेटफार्म-4 पर जहां अज्ञात युवक पंजाब मेल से नीचे पटरी पर गिरा था, वहां भी इसी तरह की टूट-फूट मिली है। घटना स्थल को देखने से साफ पता चल रहा है कि युवक इसी गैप का शिकार हुआ था, जिसमें उसकी जान चली गई।

ये भी कमियां

- इस समय ट्रेनों में जबरदस्त भीड़ चल रही है। कोच के गेट तक यात्री खड़े रहते हैं। इसके कारण प्लेटफार्म से यात्री चढ़ नहीं पाते हैं जो चढ़ने की कोशिश करते हैं वे धक्का-मुक्की का शिकार होते हैं और कई बार संतुलन बिगड़ जाता है।

- कई बार यात्रियों की तरफ से भी चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश की जाती है। भोपाल स्टेशन पर हुई कुछ घटनाओं के सीसीटीवी फुटेज में यह बात सामने आ चुकी है।

- ऐसे यात्रियों को समझाइश देने के लिए रेलवे की तरफ से कोई जागरुकता अभियान नहीं चलाया जा रहा है। यहां तक की बार-बार हो रही घटनाओं के बावजूद प्लेटफार्मों पर चलती ट्रेन में न चढ़ने से जुड़े अनाउंसमेंट तक नहीं कराएं जा रहे हैं।

मृतक की पहचान नहीं हुई

ट्रेन में चढ़ने के दौरान शनिवार शाम को हबीबगंज स्टेशन के प्लेटफार्म-4 पर पटरी पर गिरने से हुई मृत युवक की पहचान रविवार शाम तक नहीं हुई है। जीआरपी उसके परिजनों को खोजने का प्रयास कर रही है।

खतरे में यात्री

विकास से जुड़े प्रोजेक्ट का विरोध नहीं है, लेकिन यह बात सही है कि हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए खतरा बढ़ा है। युवक की मौत की वजह प्लेटफार्म व कोच के बीच बढ़ता गैप हो सकता है। रेलवे के अधिकारियों को प्लेफार्म व कोच के बीच की दूरी की जांच करनी चाहिए।

- निरजंन वाधवानी, सदस्य मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति

जागररूकता बढ़ाएंगे

यात्रियों में जागरूकता बढ़ाएंगे। अनाउंसमेंट कर कहेंगे कि कोई भी चढ़ती ट्रेन में न चढ़ें। जहां तक हबीबगंज रेलवे स्टेशन की घटना है तो वर्ल्ड क्लास स्टेशन के तहत नए सिरे से प्लेटफार्मों के काम होने हैं।

- प्रियंका दीक्षित, मुख्य प्रवक्ता जबलपुर रेलवे जोन