Radiotherapy: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। कैंसर रोगियों को रेडियोथेरेपी देने के लिए भोपाल, इंदौर और रीवा के सरकारी मेडिकल कालेजों से संबद्ध अस्पतालों में पीपीपी से लीनियर एक्सीलरेटर (लीनैक) मशीन लगाई जा रही हैं। कंपनी के चयन के लिए तकनीकी निविदा जारी की जा चुकी है, जो 30 जनवरी को खुलेगी। इसके बाद वित्तीय निविदा खोली जाएगी। इसमें कंपनी का चयन हुआ तो इस साल मई तक यह सुविधा शुरू हो जाएगी। दरअसल, परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड(एईआरबी) से अनुमति लेने में दो से तीन माह लग जाएंगे।

रेडियोथेरेपी के जानकारों ने बताया कि इंटेंसिटी माड्यूलेटेड रेडियोथेरेपी (आइएमआरटी) तकनीक से करीब सवा लाख रुपये में और थ्री-डी कानफार्मल रेडिएशन थेरेपी (सीआरटी) तकनीक से 60 हजार रुपये में एक कैंसर मरीज की रेडियोथेरेपी होती है। पीपीपी से करीब 60 प्रतिशत कम में उपचार हो जाएगा।

रेडियोथेरेपी की यह अत्याधुनिक तकनीक है जो प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में अभी नहीं है। मशीनें लगने का यह लाभ भी होगा कि आयुष्मान योजना के मरीजों को रेडियोथेरेपी देने के एवज में जो राशि निजी अस्पतालों में जा रही है वह बचेगी।

राज्य कैंसर संस्थान जबलपुर और टर्सरी केयर कैंसर इंस्टीट्यूट ग्वालियर में यह मशीन लगाने के लिए भारत सरकार से 60 प्रतिशत राशि मिली है। इन दोनों अस्पतालों के लिए भी मशीन खरीदी की प्रक्रिया चल रही है। बता दें कि करीब दो वर्ष से पीपीपी माध्यम से मशीनें लगाने की कार्यवाही चल रही है। अब जाकर निविदा की गई है

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close