भोपाल। पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ द्वारा इमरती देवी को लेकर दिए बयान को राहुल गांधी ने दुर्भाग्यजनक बताया है। राहुल गांधी ने कहा कि कमल नाथ मेरी ही पार्टी से हैं, लेकिन इस तरह की भाषा मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है। उनका बयान बहुत ही दुर्भाग्यजनक है। राहुल गांधी के इस बयान के बाद अब कमल नाथ के लिए अपनी ही पार्टी में मुश्किल खड़ी हो गई है। पहले वो अपने दिए बयान को गलत नहीं बता रहे थे, इसके बाद मामले पर लगातार विरोध के बाद सोमवार देर रात उन्होंने खेद व्यक्त किया था।

राहुल के बयान पर कमल नाथ ने कहा कि 'यह राहुल जी की राय है, उन्हें जो समझाया गया किस संदर्भ में मैंने यह कहा था। मैंने तो साफ कर दिया कि किस संदर्भ में मैंने यह कहा था। इसमें और कुछ कहने की आवश्यक्ता नहीं है।' जब उनसे इमरती देवी से माफी मांगने को लेकर सवाल किया गया तो कमल नाथ ने कहा कि मैं क्यों माफी मांगूंगा, मैंने तो कह दिया कि मेरा लक्ष्य किसी को अपमानित करना नहीं था। अगर कोई इससे अपमानित महसूस करता हैं तो उसके लिए मुझे खेद है।

पहले भी कमल नाथ से नाराज हो चुके हैं राहुल गांधी

लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में कांग्रेस से केवल एक उम्मीदवार कमल नाथ के बेटे नकुल नाथ ही जीते थे। लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी कमल नाथ से नाराज हो गए थे। उन्होंने सीडब्यूसी की मीटिंग में कह दिया था कि कुछ लोगों ने पार्टी से ज्यादा बेटों को तरजीह दी। नेताओं ने अपने बेटों को टिकट दिलाने में ही सारा जोर लगा दिया। इसलिए हम हार गए।

सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी को लिखा था पत्र

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कमल नाथ को कांग्रेस के सभी पदों से हटाने की मांग की थी। इसके साथ यह भी लिखा था कि अगर वो कमल नाथ के ऊपर कोई कार्रवाई नहीं करती हैं तो यह माना जाएगा कि अर्मादित बयान को लेकर कमल नाथ को उनका समर्थन प्राप्त है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस