भोपाल। मानसून मध्‍य प्रदेश पर फिर मेहरबान है। इसके चलते मंगलवार सुबह तक की स्थिति में प्रदेश में सामान्य से आठ प्रतिशत अधिक बरसात हो चुकी है। साथ ही बंगाल की खाड़ी में बने अवदाब के क्षेत्र के असर के चलते बुधवार से प्रदेश के कई स्थानों पर झमाझम बारिश का दौर शुरू होने की संभावना है।

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस दौरान कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। उधर, मंगलवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक सागर में 68, दमोह में 67, जबलपुर में 56, गुना में 50, खजुराहो में 43, पचमढ़ी में 27, रीवा में 24, इंदौर में 8, सीधी में 7, भोपाल में 4.1, होशंगाबाद में 3.0 मिमी. बरसात हुई।

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक प्रदेश में मंगलवार सुबह तक 623.1 मिमी. बरसात हो चुकी है,जो प्रदेश की सामान्य बरसात 577.8 मिमी. के मुकाबले 8 फीसदी अधिक है। वर्षा के मामले में प्रदेश का पश्चिमी हिस्सा फायदे में रहा। यहां मंगलवार सुबह तक सामान्य बरसात(527.1मिमी.) के मुकाबले 670.6 मिमी। बरसात हो चुकी है,जो कि सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक है। लेकिन पूर्वी मप्र में सामान्य बरसात(643.8मिमी.) के मुकाबले 561.4 मिमी. पानी गिरा है।

यह सामान्य से 13 फीसदी कम है। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी ममता यादव ने बताया कि पूर्वी मप्र में शहडोल,सीधी और पन्ना जिले में अभी तक सामान्य से करीब 40 फीसदी कम पानी गिरा है। इसी तरह पश्चिमी मप्र में सिर्फ ग्वालियर जिले में सामान्य से 15 प्रतिशत कम बरसात हुई है।

कई जिलों में तेज बौछारें पड़ने के आसार

वरिष्ठ मौसम विज्ञानी उदय सरवटे ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र आगे बढ़कर झारखंड तक पहुंच गया है। मानसून ट्रफ फिरोजपुर, बटियागढ़, बंदायू, वाराणसी, डाल्टनगंज, जमशेदपुर से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। इससे मानसून को काफी ऊर्जा मिलना शुरू हो गई है।

इस सिस्टम के प्रभाव से बुधवार-गुरुवार को होशंगाबाद, भोपाल, रायसेन, विदिशा, सीहोर, राजगढ़, मंदसौर, छिंदवाड़ा, श्योपुरकला, जबलपुर, सागर, इंदौर, धार, उज्जैन, खंडवा, खरगोन, झाबुआ, टीकमगढ़, पन्नाा, छतरपुर, सतना, सीधी, बालाघाट, नरसिंहपुर, मुरैना, दतिया, भिंड, गुना आदि में तेज बौछारें पड़ने के आसार हैं। इस दौरान कहीं -कहीं भारी बरसात भी हो सकती है।