भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। Rain in Madhya Pradesh : मौसम विज्ञान केंद्र ने पिछले 45 वर्ष के दौरान प्रदेश के विभिन्न शहरों में हुई बरसात का विश्लेषण किया। इस आधार पर शहरों की औसत बरसात का नया पैमाना तय किया गया है। अध्ययन के दौरान पाया गया कि भोपाल, इंदौर, ग्वालियर महानगर में बारिश कम होने लगी है। इसके विपरीत जबलपुर में बरसात कुछ बढ़ी है।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि प्रदेश के सभी क्षेत्र के लिए औसत बारिश के नए मापदंड तैयार कर लिए गए हैं। 1 अक्टूबर 2020 से इन्हें लागू कर दिया जाएगा। शुक्ला के मुताबिक नए पैमाने पर गौर करें तो भोपाल में औसत बारिश में 3.5 सेमी., ग्वालियर में 3.7 सेमी., इंदौर में 1.4 सेमी. की कमी दर्ज की गई है।

इसके विपरीत जबलपुर में 6.8 मिमी. की बढ़ोतरी दर्ज हुई है। उन्होंने बताया कि अध्ययन में पाया गया कि प्रदेश में मानसून देरी से आने का सिलसिला शुरू हुआ है। मानसून की विदाई में देरी से हो रही है। इससे जुलाई माह में बारिश कम होने लगी है। अगस्त में मानसून अधिक सक्रिय होने लगा है। इस वजह से भी बरसात का गणित गड़बड़ाने लगा है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020