Rajiv Gandhi University of Technology : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने अंतिम सेमेस्टर के छात्रों से पूछा है कि वे परीक्षा दे सकेंगे या नहीं। अब तक 13 हजार छात्रों ने आरजीपीवी में अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा के फार्म जमा किए हैं। इनमें कई छात्र उत्तर प्रदेश, बिहार समेत अन्य कई प्रदेशों के शामिल है। परीक्षा को लेकर मुश्किल मध्य प्रदेश से बाहर के छात्रों के लिए है, जिन्हें परीक्षा देने के लिए मध्य प्रदेश आना होगा। ऐसी स्थिति में आरजीपीवी ने परीक्षा के लिए छात्र विकल्प दिया है। हालांकि परीक्षा नहीं देने का विकल्प चुनने पर छात्रों को कारण भी विश्वविद्यालय को बताना होगा। कारण से संतुष्ट होने पर आरजीपीवी इन छात्रों की परीक्षा जुलाई या अगस्त में आयोजित करेगा। इसके साथ ही आरजीपीवी ने तय किया है कि प्रदेश में जो छात्र जहां रह रहा है, उसे उसी जिले में आरजीपीवी से संबद्ध कॉलेज को परीक्षा केन्द्र के तौर पर आवंटित कर दिया जाएगा।

इससे छात्र को परीक्षा देने के लिए अन्य जिलों में नहीं जाना होगा। हालांकि प्रदेश के बाहर के छात्रों को प्रदेश में आकर ही परीक्षा देनी होगी। दरअसल, आरजीपीवी अंतिम सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षा इसी महीने आयोजित कराने जा रहा है। परीक्षा फॉर्म जमा करने का सिलसिला सोमवार से दोबारा शुरू हुआ है। जिन छात्रों ने पहले फॉर्म भर दिया था, उन्हें भी अपने फॉर्म में उ?त जानकारी अपडेट करनी होगी। इसी आधार पर आरजीपीवी परीक्षा आयोजित करेगा।

प्रदेश के सात विवि में 4 लाख छात्र देंगे परीक्षाः प्रदेश के सभी शासकीय विश्वविद्यालयों में स्नातक अंतिम वर्ष तथा स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं पेन-पेपर मोड पर 29 जून से 31 जुलाई के मध्य आयोजित होंगी। इसके तहत 7 विश्वविद्यालयों में लगभग 4 लाख विद्यार्थी स्नातक अंतिम वर्ष तथा स्नातकोत्तर चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं देंगे।

प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा अनुपम राजन ने बताया कि कुल 597 परीक्षा केन्द्रों पर स्नातक अंतिम वर्ष के लगभग 3 लाख 4 हजार 853 विद्यार्थी तथा स्नातकोत्तर चौथे सेमेस्टर के लगभग एक लाख विद्यार्थी ऑफलाइन परीक्षा में शामिल होंगे। राजन ने बताया कि रीवा विश्वविद्यालय को छोड़कर शेष 6 विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर की 25 प्रतिशत परीक्षाएं हो गई हैं। स्नातकोत्तर स्तर की परीक्षाएं किसी भी विश्वविद्यालय में नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय परीक्षाओं के संचालन में परीक्षा केन्द्रों पर शारीरिक दूरी का कड़ाई से पालन किया जाना अनिवार्य होगा।

स्नातक प्रथम, द्वितीय तथा स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर और अन्य पाठ्यक्रमों की नियमित परीक्षाएं स्थानीय स्तर पर परिस्थितियां सामान्य होने पर आयोजित की जा सकेंगी। स्नातक कक्षाओं के प्रथम एवं द्वितीय वर्ष सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को अगली कक्षा में प्रवेश देकर एक सिंतबर 2020 से नया सत्र प्रारंभ किया जाएगा। इस वर्ष के लिए स्नातक कक्षाओं और पाठ्यक्रमों के प्रथम वर्ष तथा स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों का नया सत्र एक अक्टूबर 2020 से शुरू होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना