भोपाल Ram Mandir Bhumi Pujan । मप्र कांग्रेस अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ द्वारा राम मंदिर निर्माण का स्वागत करने के बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी राम मंदिर निर्माण के प्रति अपनी आस्था जताने के साथ तंज भी किया है। सिंह ने ट्वीट कर कहा, "राम हमारी आस्था के केंद्र हैं, पर बिना मुहुर्त के शिलान्यास कर धार्मिक भावना से खिलवाड़ किया जा रहा है।" उधर, धर्म निरपेक्षता की राजनीति करने वाली कांग्रेस के राम मंदिर निर्माण का स्वागत करने से मुस्लिम नेता असदुद्दीन ओवैसी भड़क उठे हैं। उन्होंने कमल नाथ पर तंज कसा, "जालिम, दिल की बात जुबां पर आ ही गई।" इसे लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया समन्वयक अभय दुबे ने ओवैसी पर पलटवार करते हुए कहा कि अपने मन में बैठे रावण को बाहर निकालकर देखें। राम तुम्हारे मन में है।

शुक्रवार को कमल नाथ ने राम मंदिर निर्माण का स्वागत किया था लेकिन यह बात ऑल इंडिया इत्तेहादुल मुसलमिन (एआइएमआइएम) के नेता व लोकसभा सदस्य ओवैसी को नागवार गुजरी। उन्होंने कांग्रेस की नीतियों पर तंज कसा और यहां तक कहा, "कांग्रेस को चाहिए कि वह अपने सभी कार्यालयों से रेत अयोध्या के राम मंदिर भिजवाए।" इसे लेकर कांग्रेस नेता अभय दुबे ने कहा, "रावण को मन से निकाल दें क्योंकि राम तुम्हारे मन में है।"

रामभरोसे चल रहा देश : दिग्विजय

वहीं, राम मंदिर निर्माण पर कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने मंदिर के शिलान्यास के मुहूर्त पर सवाल उठाया और कहा बिना मुहूर्त के शिलान्यास किया जा रहा है जो धार्मिक भावना और मान्यताओं के साथ खिलवाड़ है। राम हमारी आस्था के केंद्र हैं और आज समूचा देश भी राम भरोसे ही चल रहा है। इसीलिए हम सबकी आकांक्षा है कि जल्द से जल्द अयोध्या में भव्य मंदिर बने। मगर पांच अगस्त को कोई मुहूर्त नहीं है जबकि देश के 90 प्रतिशत से ज्यादा हिंदू मुहूर्त, ग्रहदशा, चौघड़िया के धार्मिक विज्ञान को मानते हैं।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020