Remdesivir Injection Black Marketing: भोपाल (नईदुनिया स्टेट ब्यूरो)। नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन का मामला सामने अपने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। उन्होंने पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी को निर्देश दिए हैं कि अपराधियों को गिरफ्तार करें और गुजरात से उठाकर लाएं। यह गंभीर और हत्या का मामला है। मध्य प्रदेश में केस चले। किसी भी अपराधी को नहीं छोड़ना है।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई कोरोना समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने नकली रेमडेसिविर के मामले में कहा कि यह पूरी संभावना है कि जानबूझकर नकली इंजेक्शन बनाया और वह संक्रमित व्यक्ति को लग गया। हो सकता है कि उसे असली इंजेक्शन लग जाता तो वह बच जाता है। यह मामला बहुत गंभीर है और सीधे लोगों की जान से जुड़ा है, इसलिए हत्या का मामला बनता है। इसके मूल में यही है। उन्हें किसी भी सूरत में नहीं छोड़ना है। बैठक में कहा गया कि मध्य प्रदेश पुलिस को अपराधियों को उठाकर लाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने इसका समर्थन करते हुए पुलिस महानिदेशक से कहा कि अपराधियों को गुजरात से उठाकर लाएं क्योंकि इंजेक्शन यहां (मध्य प्रदेश) बेचे गए हैं। यहां नकली इंजेक्शन मामले में प्रकरण चले।

ब्लैक फंगस के 50 प्रकरण आ चुके हैं सामने

मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि ब्लैक फंगस के संक्रमण की घटनाएं सामने आ रही हैं और वो बहुत भयानक हंै। कुछ प्रकरणों में जबड़े तक निकालने पड़े हैं। इसमें नाक, मुंह, दांत, आंख, मस्तिष्क और बाकी अंग भी संक्रमित हो जाते हैं। अभी तक प्रदेश में 50 रोगियों को ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। हमारी ड्यूटी है कि कोरोना के बाद होने वाले बीमारी का इलाज सुनिश्चित करें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इसके लिए तय प्रोटोकॉल जारी करें। इसमें बीमारी के कारण, लक्षण और इलाज के साथ क्या सावधानियां रखी जानी चाहिए, वह बताया जाए। प्रारंभिक अवस्था में ही ध्यान दिया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि इसका इलाज महंगा है। इंजेक्शन भी महंगे लगते हैं, इसलिए राज्य शासन आर्थिक रूप से कमजोर मरीजों को सहयोग करेगा। इनके निशुल्क इलाज की व्यवस्था की जाएगी।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local