भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि। हर व्यक्ति में कोई न कोई प्रतिभा होती है, लेकिन 11वीं की छात्रा रिया जैन कई प्रतिभाओं की धनी है। उन्हें पेंटिंग, कराते, मॉडल सहित अन्य कला में महारत हासिल है। राजधानी की इस छात्रा का चयन प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल शक्ति पुरस्कार 2020 के लिए किया गया है। यह पुरस्कार छात्रा को बुधवार को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा छात्रा नई दिल्ली में 26 जनवरी को आयोजित परेड में अन्य 25 बच्चों के साथ शामिल होंगी। साथ ही उन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी मिलने का मौका मिलेगा।

छात्रा को आर्ट एंड कल्चर की श्रेणी में बाल शक्ति पुरस्कार से नवाजा जाएगा। उन्हें पुरस्कार स्वरूप एक लाख रुपए नकद, टैबलेट, मैडल और प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा। छात्रा ने इस पुरस्कार के लिए 230 सर्टिफिकेट के साथ आवेदन किया था। रिया को यह पुरस्कार पेंटिंग के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ करने के लिए दिया जा रहा है। उन्‍हें अब तक पेंटिंग के लिए 100 पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। इसमें कई राष्ट्रीय पुरस्कार भी शामिल है।

इसके अलावा 8 अंतरराष्ट्रीय, 20 राष्ट्रीय, 72 जिला और राज्य स्तरीय पुरस्कार इनके नाम है। छात्रा रिया जैन सेंट जोसफ को-एड स्कूल में 11वीं में पढ़ती हैं। छात्रा ने 5वीं से पेंटिंग करना शुरू किया। उन्हें जुलाई 2019 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस की ओर से अर्थ डे पर नई दिल्ली में विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में पुरस्कार मिल चुका है।

छात्रा ने बनाया बहुपयोगी छाता

रिया ने एक बहुपयोगी छाता बनाकर प्रदर्शनी में लगाया था, जिसकी चर्चा खूब हुई थी। छाता में रोशनी के लिए टॉर्च, गर्मी से बचने के लिए पंखा और जीपीएस सिस्टम लगा हुआ था। यह छाता धूप और बारिश से तो बचाएगा ही जरूरत पड़ने पर हवा भी देगा। छाते को छात्रा ने कुछ इस तरह तैयार किया था कि इसमें रोशनी के लिए टॉर्च और हवा के लिए पंखा लगा है। इसे एयर कंडीशनर छाता नाम दिया था। छाते में बैटरी लगी थी उसे चार्ज करने के लिए छाते के ऊपर ही एक सोलर प्लेट भी लगा है। यह प्लेट धूप में बैटरी को चार्ज करती है, जिससे पंखा और टॉर्च अपना काम करते हैं। छाते की लागत मात्र 150 रुपए थी।

पेंटिंग के जरिए करती है जागरूक

रिया पेंटिंग के जरिए समाज को जागरूक करती हैं। वे बाल अधिकार संरक्षण, बाल विवाह, बाल श्रम, कुपोषण्ा जैसे मुद्दों को बच्चों के जीवन से जोड़ते हुए दर्शाती हैं। साथ ही पर्यावरण संरक्षण, कला-व संस्कृति को भी उकेरती हैं। उनका कहना है कि वे पेंटिंग पुरस्कार के लिए नहीं करती, बल्कि समाज को संदेश देने के लिए करती हैं।

Posted By: Hemant Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020