- सीटीओ, कैंप नंबर 12, मथाई नगर एवं कैलाशनगर के नागरिकों को होगी सुविधा

संत हिरदाराम नगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

राजधानी के मुख्य स्टेशन की तरह संत हिरदाराम नगर (बैरागढ़) स्टेशन के दूसरे छोर पर भी प्रवेश द्वार बनाने की जरूरत महसूस की जा रही है। पटरी पार इलाके में बड़ी संख्या में नई कॉलोनियों की बसाहट हो रही है। यहां रहने वाले नागरिकों को लंबा फेरा लगाकर स्टेशन तक पहुंचना पड़ रहा है।

पश्चिम मध्य रेलवे के तत्कालीन महाप्रबंधक गिरीश पिल्लई ने कुछ समय पहले स्टेशन का निरीक्षण करने पहुंचे थे। निशातपुरा से बैरागढ़ तक रेलवे लाइन का निरीक्षण करते वक्त यहां के संगठनों ने उनसे सीटीओ छोर पर प्रवेश द्वार बनाने की मांग की थी। श्री पिल्लई ने इसका परीक्षण कराने की बात कही थी, लेकिन अभी तक सर्वे तक शुरू नहीं हुआ है। बैरागढ़ स्टेशन भोपाल मंडल में शामिल होने के बाद यह निर्णय आसानी से लिया जा सकता है। रेल सुविधा संघर्ष समिति के अध्यक्ष परसराम आसनानी एवं पूज्य सिंधी पंचायत के महासचिव माधु चांदवानी का कहना है दोनों तरफ प्रवेश द्वार बनाने की मांग को लेकर जल्द ही डीआरएम से मुलाकात की जाएगी।

आधी आबादी को होती है परेशानी

संत हिरदाराम नगर की लगभग आधी आबादी स्टेशन के दूसरे छोर पर निवास करती है। एक समय पटरी पार क्षेत्र में केवल सीटीओ, कैंप नंबर 12 और देवलोक कालोनी ही हुआ करती थी। पिछले 10-15 साल में यह इलाका तेजी से विकसित हुआ है। मथाई नगर, कैलाशनगर, सत्यम कॉलोनी, नंदा नगर, साईं बाबा रेसीडेंसी, लाऊखेड़ी सहित करीब दो दर्जन कॉलोनियों के रहवासियों को स्टेशन आने के लिए फाटक क्रास करना पड़ता है। यदि प्रवेश द्वार बन जाए तो रहवासियों को फाटक क्रास करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सीटीओ निवासी पृथ्वीराज त्रिवेदी एवं विनय रावत का कहना है कि स्टेशन के विकास के लिए भी नया इंट्री गेट बनना जरूरी है।

पार्किंग की जगह भी उपलब्ध

वर्तमान में संतनगर स्टेशन पर दो प्लेटफार्म हैं। प्लेटफार्म नंबर 1 के बाहर पार्किंग की सुविधा भी है लेकिन प्लेटफार्म नंबर दो के बाहर अधिकृत पार्किंग नहीं है। रेल प्रशासन के पास जमीन भी उपलब्ध है। यदि यहां नया प्रवेश गेट बनाकर पार्किंग विकसित की जाए तो नागरिकों को सुविधा हो जाएगी। साथ ही रेलवे की आय भी बढ़गी।

फोटो- संत हिरदाराम नगर स्टेशन