अतीक अहमद, मंडीदीप। सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जहां शासकीय विभाग लंबा-चौड़ा बजट खर्च कर रहा है, जिसमें बैनर पोस्टर सहित अन्य आयोजन शामिल हैं, उसके बाद भी सड़क दुर्घटनाओं में कोई कमी नजर नहीं आ रही है। बीते पांच साल में मंडीदीप, औबेदुल्लागंज ब्लाक, गौहरगंज में 918 सड़क दुर्घटनाएं हुई, इसमें 327 लोगों की मौत हुई, जबकि 934 लोग घायल हुए। हाइवे निर्माण के बाद हुए सड़क हादसों पर नजर दौड़ाएं तो इन दुर्घटनाओं में मरने वालों का प्रतिशत बढ़ा है, जबकि घायलों की संख्या कम हुई है। इसमें ग्रामीणों की तादाद शहरी क्षेत्र की अपेक्षा अधिक है। यह हम नहीं, बल्कि पुलिस के आंकड़े बता रहे हैं।

जानकारी के अनुसार औबेदुल्लागंज ब्लाक में सात थाने तीन चौकियां हैं, जिसमें पांच थाने और दो चौकियां हाइवे पर जबकि ग्रामीण थाने और चौकी में बीते पांच साल में छोटे-बड़े 100 हादसे हुए, जिसमें 20 की मौत हुई और 50 लोग घायल हुए हैं, इनमें से किसी ने भी हेलमेट नहीं पहना था।

दुर्घटनाओं के बढ़ते हुए आंकडों के बारे में गौहरगंज थाना प्रभारी राजकुमार चौधरी ने बताया कि अन्य उपायों के साथ सावधानी बरती जाना जरूरी है, जबकि ग्रामीणों में जागरूकता का अभाव रहता है।

सेवानिवृत पुलिस अधिकारी नरेंद्र सिंह राठौर ने नवदुनिया द्वारा चलाए जा रहे सड़क सुरक्षा अभियान की सराहना करते हुए बताया कि सड़क हादसों को रोकने के लिए पुलिस को निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। साथ ही शराब पीकर गाड़ी कभी न चलाएं, सीट बेल्ट और हेलमेट जरूर लगाए। नियमों का पालन करते हुए सावधानी पूर्वक सड़क पर वाहन चलाएं तो संभावित हादसों से बचा जा सकता है।

पांच साल में हुए सड़क हादसे

वर्ष हादसे घायल मृतक

2018, 145 120 65

2019, 250 230 70

2020, 175 150 52

2021, 180 205 75

2022, 168 229 65

सड़क हादसे रोकने के लिए पुलिस निरंतर सक्रिय रहती है। नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई भी की जाती है। साथ ही समय-समय पर जागरूकता अभियान भी चलाया जाता है।

- विकास कुमार सहवाल, पुलिस अधीक्षक रायसेन

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close