भोपाल। भिंड जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा नेता पूर्व सांसद रघुनंदन शर्मा के साथ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के पोस्टर लगाए जाने पर स्थानीय कांग्रेस विधायक व वरिष्ठ मंत्री डॉ. गोविंद सिंह, बचाव में उतर आए हैं। उन्होंने पोस्टर लगाए जाने पर भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर बिफरते हुए षड्यंत्र के आरोप लगाए। उन्होंने यहां तक कह दिया कि आरएसएस का नाम राष्ट्रीय षड्यंत्रकारी संगठन होना चाहिए। वहीं आरएसएस की मप्र इकाई ने डॉ. गोविंद सिंह के बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।डॉ. गोविंद सिंह ने शनिवार को मीडिया से चर्चा के दौरान आरोप लगाया कि आरएसएस में बचपन से ही झूठ बोलने और षड्यंत्र फैलाने की सीख दी जाती है। आरएसएस का नाम तो राष्ट्रीय षड्यंत्रकारी संगठन होना चाहिए। भाजपा व आरएसएस ने षड्यंत्र करके ही भिंड जिले में सिंधिया के भाजपा नेताओं के साथ पोस्टर लगवाए हैं।

गौरतलब है कि भिंड जिले में सिंधिया के दौरे पर कई स्वागत पोस्टर लगाए गए थे, जिनमें से एक भारत रक्षा मंच के कथित जिला संयोजक के नाम से भी लगा था। इस पोस्टर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने का सिंधिया के समर्थन पर उनका स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की तस्वीरों के साथ उनका फोटो भी लगाया गया था।

भाजपा सबसे सांप्रदायिक पार्टी

मंत्री डॉ. गोविंद सिंह भाजपा के खिलाफ बयान देने में यहीं नहीं रुके, बल्कि भोपाल नगर निगम के दो हिस्से किए जाने को सांप्रदायिकता से जोड़े जाने पर भी घेरा। उन्होंने कहा कि भाजपा सबसे सांप्रदायिक पार्टी है। वह देश के टुकड़े करना चाहती है। भाजपा एक नया देश बनाने की तरफ काम कर रही है। वहीं, कांग्रेस की नीति सबको साथ लेकर चलने की है।

Posted By: Sandeep Chourey