धनंजय प्रताप सिंह, भोपाल। मध्य प्रदेश के भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर इन दिनों सोशल मीडिया में छाई हुईं हैं। साध्वी ने सोशल मीडिया पर सक्रियता से अन्य भगवाधारी नेताओं को पीछे छोड़ दिया है। कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी द्वारा जिंदा जला दिए जाने की धमकी का साध्वी ने टि्वटर पर जवाब दिया तो चंद घंटों में 47 हजार 600 लोगों ने उनके ट्वीट को लाइक किया और 17 हजार 300 लोगों ने रि-ट्वीट किया। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर भी साध्वी की पोस्ट को जबर्दस्त लाइक मिले। साध्वी ने अपने ट्वीट में कहा था कि कांग्रेसियों को जिंदा जलाने का पुराना अनुभव है। मालूम हो, महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर सांसद प्रज्ञा की टिप्पणी के विरोध में पुतला दहन के दौरान कांग्रेस विधायक दांगी ने सांसद को जला देने का विवादास्पद बयान दिया था।

सोशल मीडिया में शिवराज बनाम प्रज्ञा की तस्वीर

मध्य प्रदेश की सत्ता गंवाने के एक साल में ही पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का जादू फीका होता जा रहा है, जबकि लोकसभा चुनाव के बाद छह महीने में विवादों के कारण प्रज्ञा का नाम लोगों की जुबां पर चढ़ा है। प्रदेश में फिलहाल तो भाजपा का सबसे बड़ा चेहरा शिवराज हैं। सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा फॉलोअर्स के साथ खूब सक्रिय भी रहते हैं। ऐसे में शिवराज बनाम प्रज्ञा से तस्वीर समझी जा सकती है।

प्रज्ञा की कांग्रेस विधायक दांगी को ललकारने वाले ट्वीट को शुरुआती तीन घंटे में 25 हजार से ज्यादा लाइक, रिट्वीट और कमेंट्स मिले, जो 24 घंटे में बढ़कर 65 हजार के आंकड़े को पार कर गए। प्रज्ञा ने जिस हैंडल 'साध्वी प्रज्ञा ऑफिशियल" से ये ट्वीट किया था। उसमें फॉलोअर्स ही करीब 65 हजार हैं।

इधर, शिवराज सिंह चौहान को भी बड़े दिन बाद जिस ट्वीट पर 10 हजार से ज्यादा लाइक और रिट्वीट मिले, वो भी प्रज्ञा से ही जुड़ा था। चौहान के फॉलोअर की संख्या करीब 57 लाख है।

भगवा ब्रिगेड को मिल गया फायर ब्रांड हिंदू चेहरा

रामजन्मस्थान आंदोलन से निकले भगवाधारी उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा, विनय कटियार, कल्याण सिंह और जयभान सिंह पवैया अब राजनीति में पीछे रह गए हैं। उत्तर प्रदेश में स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ जांच जारी है। इन परिस्थितियों में भगवा ब्रिगेड को किसी ऐसे फायर ब्रांड हिंदू चेहरे की जरुरत थी, जो हिंदुत्व के एजेंडे को गति देने में उपयोगी हो। हिंदू कट्टरपंथ के मामले में प्रज्ञा का नाम सबसे आगे था, जो अब राष्ट्रीय स्तर पर छा चुका है। प्रज्ञा के नाम जैसा मीडिया क्रेज अब शिवराज, उमा भारती या अन्य भगवा ब्रांड नेताओं में नहीं रहा।

टि्वटर पर मोदी सर्वाधिक लोकप्रिय

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के टि्वटर पर 5.15 करोड़ फॉलोअर हैं। नवंबर में उन्हें सर्वाधिक लाइक, रिट्वीट और कमेंट अयोध्या फैसले पर मिले। इसकी सर्वाधिक संख्या 8.22 लाख थी।

- भाजपा अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह के टि्वटर पर 1.62 करोड़ फॉलोअर है। उन्हें भी नवंबर में सबसे ज्यादा रिट्वीट, लाइक और कमेंट अयोध्या फैसले पर मिले। इसकी सर्वाधिक संख्या 1.90 लाख रही।

- आप के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के टि्वटर पर फॉलोअर्स की संख्या 1.58 करोड़ है। नवंबर में उन्हें सबसे ज्यादा रिट्वीट, लाइक और कमेंट अयोध्या फैसले पर मिले, जिसकी संख्या 45 हजार के करीब रही।

- पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती के टि्वटर पर फॉलोअर्स की संख्या 3.30 लाख के करीब है। नवंबर में उन्हें सबसे ज्यादा रिट्वीट, लाइक और कमेंट अयोध्या फैसले पर मिले, जिसकी संख्या 1735 रही।

- महिला उत्पीड़न के मामले में कांग्रेस पहले से बदनाम है। सोशल मीडिया में देश साध्वी प्रज्ञा सिंह के साथ है। कांग्रेस को इससे सबक लेना चाहिए, अपने नेताओं पर लगाम लगाना चाहिए। - दीपक विजयवर्गीय, मुख्य प्रवक्ता, भाजपा मध्य प्रदेश

Posted By: Sandeep Chourey