भोपाल। नईदुनिया स्टेट ब्यूरो। Sadhvi Pragya Singh Thakur महाराष्ट्र के होम्योपैथी डॉक्टर सैयद अब्दुल रहमान को मध्यप्रदेश पुलिस की एटीएस ने सांसद प्रज्ञा ठाकुर को संदिग्ध विस्फोटक के साथ धमकी भरा पत्र भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया है। अब्दुल रहमान ने अपने परिजनों को सबक सिखाने के लिए काल्पनिक आतंकी संगठन के नाम से धमकी भरा पत्र भेजा था। पत्र में परिजनों तथा परिचितों के नाम लिख दिए थे, जिससे पुलिस उन्हें पकड़कर जेल भेज दे। एटीएस ने आरोपित को अदालत में पेश कर सात दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है।

सांसद प्रज्ञा ठाकुर को 13 जनवरी को एक धमकी भरा पत्र मिला था, जिसमें कथित रूप से विस्फोट भी था। प्रकरण की प्रारंभिक जांच भोपाल पुलिस ने की थी, लेकिन बाद में इसे एटीएस को सौंप दिया गया। एडीजी एटीएस राजेश गुप्ता ने बताया कि धमकी भरे पत्र में मिले दस्तावेजों के आधार पर जांच शुरू की, लेकिन उनमें किसी जगह का नाम नहीं होने से आरोपित की पहचान मुश्किल हुई। चार दिन में एटीएस ने आरोपित की महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले के अब्दुल रहमान के रूप में पहचान कर उसकी गतिविधियों पर नजर रखी और बाद में उसे गिरफ्तार किया।

एटीएस की पूछताछ में अब्दुल रहमान ने बताया कि उसके खिलाफ परिजनों ने 2014 में हत्या के प्रयास का एक मामला दर्ज करवाया था, जिसमें उसे 18 महीने जेल में रहना पड़ा था। इसका बदला लेने के लिए उसने स्थानीय पुलिस अधिकारियों को कई शिकायत की, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। इसके बाद अब्दुल रहमान ने बड़े हिंदू नेताओं को आतंकी संगठन के नाम से धमकी देकर उसमें परिजनों के नाम लिख देने का षड्यंत्र रचा।

अक्टूबर में उसने अगरबत्ती के पैकेट की पॉलीथिन में संदिग्ध विस्फोट पावडर भरा व परिवार वालों के कुछ दस्तावेजों के साथ धमकी भरा पत्र डाक से सांसद प्रज्ञा ठाकुर को भेजा। सांसद ठाकुर ने जनवरी में जब इसे खोलकर देखा तो वे सन्न् रह गईं और उन्होंने पुलिस को शिकायत की। कमला नगर पुलिस थाने ने इसमें धारा 326 (ख) व 507 का प्रकरण दर्ज किया था।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket