Salon in Bhopal : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में 4 हजार से अधिक हेयर सैलून हैं। लॉकडाउन के लंबे दौर से गुजरने के बाद इन्हें खोलने की अनुमति जिला प्रशासन ने 2 जून को दे दी थी। शर्त थी कि सैलून में कोरोना वायरस से बचाव के संसाधन जैसे सैनिटाइजर, टिशू पेपर, मास्क आदि हो। बड़े सैलूनों में तो व्यवस्था जुटा ली गई, लेकिन छोटे सैलून वालों को संसाधन जुटाने में पसीना आ रहा है। दिनभर में इतनी कमाई नहीं होती कि वे संसाधनों के लिए अतिरिक्त राशि खर्च कर सके इसलिए उन्होंने सरकार से मदद मांगी थी, लेकिन एक महीना बीतने के बावजूद संसाधन नहीं मिल सके हैं। अब समाजजनों ने फिर मांग उठाई है। बता दें कि सैलून लॉकडाउन में लगातार 69 दिन तक बंद रहे थे। ऐसे में सैलून संचालक व कारीगरों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया था।

यह संसाधन जरूरी

पीपीई किट, टिशू पेपर, सैनिटाइजर आदि सुरक्षित संसाधन जरूरी किए गए हैं, किंतु इनकी कीमत सैलून संचालकों को महंगी पड़ रही है। इसमें 700 से 800 रुपये तक का खर्च आ रहा है। सैलून पर दो-तीन कारीगर होने पर खर्च भी बढ़ा है इसलिए सेविंग व कटिंग की दरें 20 प्रतिशत तक बढ़ा दी गई है। संचालकों का तर्क है कि यदि सरकार उन्हें जरूरी संसाधन उपलब्ध करा दें तो ग्राहकों से वे अधिक राशि वसूली नहीं करेंगे।

20 प्रतिशत तक बढ़ाई दरें

पीर गेट स्थित सैलून संचालक जितेंद्र सेन ने बताया कि उनके यहां कोरोना से बचाव के सारे संसाधन है, किंतु इन्हें खरीदने के लिए मोटी राशि खर्च करना पड़ रही है इसलिए सेविंग व कटिंग की दरों में 20 प्रतिशत तक इजाफा किया है। भारत टॉकीज चौराहे पर सैलून संचालक रज्जू सलमानी ने बताया कि तय गाइड लाइन के हिसाब से सैलून संचालित कर रहे हैं। संसाधनों के लिए शासन से मांग की थी, लेकिन अब तक कोई मदद नहीं मिल सकी।

सैलून पर नजर

- 4000 हेयर सैलून शहर में

- 700 से 800 रुपये में आ रहे सुरक्षा के संसाधन

- 20 प्रतिशत तक बढ़ी है सेविंग-कटिंग की दरें

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना