भोपाल। (राज्य ब्यूरो)। प्रदेश में रबी सीजन की बोवनी की शुरुआत के साथ डीएपी खाद के वितरण को लेकर आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए सरकार एक्शन मोड में आ गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को खाद की उपलब्धता और वितरण को लेकर समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से साफ कहा कि किसी भी सूरत में कालाबाजारी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। किसानों को खाद बिना किसी परेशानी के मिलना चाहिए। उधर, गृहमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कालाबाजारी करने वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई होगी। वहीं, सहकारिता विभाग ने मुरैना और भिंड में खाद वितरण व्यवस्था का जायजा लेने के लिए भोपाल से अधिकारी भेजा। उन्होंने बताया कि तीन हजार टन खाद एक-दो दिन में पहुंच जाएगी। इससे स्थितियां सामान्य हो जाएंगी।

मुरैना, भिंड सहित कुछ अन्य जिलों में डीएपी खाद के वितरण को लेकर समस्या आ रही है। इसकी वजह से किसानों को खाद लेने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नकद खाद विक्रय केंद्रों पर भीड़ लगने की वजह से अव्यवस्था भी फैल रही है। इस स्थिति को नियंत्रित करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों को दिए हैं। उन्होंने गुरुवार को फिर कृषि, सहकारिता, राज्य सहकारी विपणन संघ सहित अन्य विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक करके खाद की स्थिति को लेकर समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि खाद के वितरण में किसी प्रकार की शिकायत नहीं आनी चाहिए। लापरवाही और शिकायत आने पर संबंधितों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। गड़बड़ी पाए जाने पर जेल की सजा भी हो सकती है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि खाद की ऑफलाइन बिक्री के दौरान कालाबाजारी किसी भी स्थिति में न हो पाए। किसानों को बिना परेशानी के खाद मिलना चाहिए। मुरैना और भिंड के कलेक्टरों को खाद वितरण व्यवस्था को बनाने और समस्याओं का निराकरण करने के निर्देश दिए। किसानों को एनपीके खाद के बारे में जागरुक किया जाए। यह भी डीएपी की तरह प्रभावी है।

कांग्रेस को सवाल उठाने का हक नहीं

वहीं, गृहमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने खाद के संकट पर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ सहित अन्य नेताओं द्वारा सवाल उठाने पर पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें इसका हक नहीं है। वे आरोप लगाते समय यह भूल जाते हैं कि उनके समय में जब खाद का संकट हुआ था तब उनकी पार्टी के विधायक लक्ष्मण सिंह स्वयं खाद की पर्चियां बांट रहे थे। कांग्रेस विधायक धरने पर बैठ गए थे। भाजपा सरकार खाद की कालाबाजारी करने वालों को नहीं छोड़ेगी। उनके खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई होगी।

सहकारिता विभाग ने संयुक्त पंजीयक को भेजा मुरैना

उधर, अपर मुख्य सचिव कृषि एवं सहकारिता अजीत केसरी ने मुरैना और भिंड में खाद के वितरण में आ रही समस्या के कारणों को जानने के लिए भोपाल से संयुक्त पंजीयक अरविंद सिंह सेंगर को मुरैना भेजा है। उन्होंने गुरुवार को खाद की स्थिति को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान संभागायुक्त आशीष सक्सेना सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। इस दौरान बताया गया कि तीन हजार टन खाद एक-दो दिन में मुरैना पहुंच जाएगी। अभी भी एक हजार 300 टन खाद उपलब्ध है। भिंड में भी वितरण व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए गए हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local