भोपाल(नवदुनिया स्टेट ब्यूरो)। राज्य सरकार 20:50 फॉर्मूले को लेकर एक बार फिर सख्त हो गई है। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी विभाग, निगम-मंडल, कमिश्नर, कलेक्टर से चार दिसंबर तक कर्मचारियों की परफार्मेंस रिपोर्ट मांगी है। इस रिपोर्ट के आधार पर उन अधिकारियों-कर्मचारियों को नौकरी से बाहर किया जा सकेगा, जो लापरवाही बरतते हैं, अनियमितता करते हैं या फिर ईमानदारी से अपनी ड्यूटी नहीं कर रहे हैं। इसके लिए परफार्मेंस के आधार पर कर्मचारी को अंक दिए जाते हैं। जिसके 50 से कम अंक आएंगे। उसकी नौकरी खतरे में होगी।

केंद्र सरकार के इस नियम पर वर्ष 2018 में विधानसभा चुनाव से पहले सरकार ने तेजी से काम किया था। दो आइएएस और एक-एक आइपीएस-आइएफएस को परफार्मेंस रिपोर्ट खराब होने के कारण अनिवार्य सेवानिवृत्ति भी दी गई है, पर चुनाव के बाद से इस पर काम नहीं हो पाया था। अब फिर सरकार के रडार पर ऐसे अधिकारी और कर्मचारी आ गए हैं।

सरकार 15 दिसंबर के बाद ऐसे कर्मचारियों के स्वास्थ्य की जांच भी कराएगी, जो बार-बार बीमार होते हैं। सरकार ने ऐसे कर्मचारियों को 20 साल की सेवा पूरी होने पर स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प दिया है। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी विभागों से अनिवार्य रूप से तय समयसीमा में रिपोर्ट मांगी है। दो साल से ठंडे बस्ते में पड़ा यह मामला एक बार फिर इसलिए गरमा गया क्योंकि हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों-कर्मचारियों की मैदानी पदस्थापना परफार्मेंस के आधार पर करने के लिए कहा है।

ये है 20:50 फॉर्मूला

20:50 फॉर्मूला वास्तव में केंद्र सरकार का है। जिस पर राज्य सरकार ने भी नियम बनाए हैं। इसके तहत काम में लापरवाही करने, अनियमितता करने, गोपनीय चरित्रावली खराब हो या स्वास्थ्य कारणों से काम करने में सक्षम न हो। ऐसे अधिकारी या कर्मचारी को 20 साल की सेवा और 50 साल की उम्र पूरी होने पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जा सकती है। हालांकि इसके लिए बनाई गई छानबीन समिति संबंधित कर्मचारी के परफार्मेंस का आकलन करती है। समिति की रिपोर्ट के आधार पर ही सरकार कर्मचारी को हटाने का निर्णय लेती है।

ऐसे तैयार होगा रिजल्ट

कर्मचारियों के परफार्मेंस का आकलन गोपनीय चरित्रावली में तय श्रेणियों के आधार पर किया जाएगा। यदि किसी कर्मचारी को गोपनीय चरित्रावली में लगातार क श्रेणी मिलती है, तो उसके 20 साल में 100 अंक हो जाएंगे, लेकिन ग और घ श्रेणी वाले कर्मचारी कार्रवाई के दायरे में आ जाएंगे।

कार्रवाई की जद में प्रदीप खन्नाा

20:50 फॉर्मूला खनिज अधिकारी प्रदीप खन्नाा के लिए मुसीबत बन सकता है। दो महीने पहले ही खन्न्ा के भोपाल और इंदौर स्थित मकानों पर लोकायुक्त पुलिस ने छापामार कार्रवाई की थी। इस दौरान उनके पास करोड़ों की संपत्ति मिली थी। सूत्र बताते हैं कि अब खन्नाा के दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस