भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्भया दुष्कर्म मामले में दोषियों की फांसी को लेकर वकील इंदिरा जयसिंह द्वारा दिए गए बयान पर निशाना साधा है। शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर पूछा है कि इंदिराजी, वकील कब से बिन मांगी सलाह देने लगे? ऐसी मानसिकता के चलते ही अपराधियों के हौसले बढ़ते हैं। मानवाधिकार मानवों के होते हैं, दानवों के लिए नहीं। कभी आपने इन बेटियों के बारे में सोचा? क्या आप को पता भी है कि ऐसी कितनी निर्भया आज भी न्याय की प्रतीक्षा कर रही हैं? निर्भया बेटी के साथ हुए जघन्य अपराध में शामिल वो नरपिशाच सिर्फ नाबालिग होने की वजह से छूट गया, मेरे हिसाब से उसको भी फांसी की सजा होनी चाहिए। मेरा भारतीय संसद से निवेदन है कि जल्द से जल्द कानून में बदलाव करें ताकि ऐसे नराधम समाज में खुले न घूमने पाएं।

शिवराज सिंह चौहान ट्वीट में लिखा है कि इंदिराजी का सोनिया जी का तारीफ करना तो बनता ही है। मुझे इसमें जरा भी अचरज नहीं है। मैं निर्भया की मां की हिम्मत को प्रणाम करता हूं, जो अपनी बेटी के न्याय के लिए निरंतर लड़ती रहीं। पूरा देश आप के साथ है। मुझे उस दिन की प्रतीक्षा है जब सारे नराधम फांसी के फंदे पर लटका दिए जाएंगे।

Posted By: Prashant Pandey

fantasy cricket
fantasy cricket