खटलापुरा हादसे के बाद जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव को पत्र लिखा है। इस पत्र में मंत्री ने कहा है कि 11 लोगों की अकाल मृत्यु में प्रथम दृष्टया प्रशासनिक लापरवाही नजर आ रही है। यदि खटलापुरा घाट पर जिला प्रशासन द्वारा तैनात कि गए डिप्टी कलेक्टर और तहसीलदार अथवा नायब तहसीलदार, पुलिस के अधिकारी, सिपाही व गोताखोर होते तो अकाल मृत्यु टाली जा सकती थी। खटलापुरा पर इस प्रशासनिक लापरवाही के लिए तैनात किए जिम्मेदार अधिकारी, कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर मामले की उच्चस्तरीय जांच हो।

----------

मंत्री ने ने रात दो बजे ही अधिकारियों की गैर मौजूदगी पर जताई थी नाराजगी

गुरुवार-शुक्रवार की रात दो बजे जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने खटलापुरा सहित अन्य विसर्जन घाट का निरीक्षण किया था। खटलापुरा में अधिकारियों की गैर मौजूदगी पर उन्होंने नाराजगी भी जताई थी। मंत्री का कहना था कि यहां मोटर बोट की व्यवस्था क्यों नहीं की गई? नाव में इतने लोगों को चढ़ने से अधिकारियों ने रोका क्यों नहीं? यह सीधे तौर पर लापरवाही है।

------------