Snake in Bhopal : भोपाल। लॉकडाउन में अपनी टेरेटरी बढ़ा चुके जानवर लॉकडाउन खुलने के बाद भी बेखौफ निकल रहे हैं। शहर में रोज 20-25 सांप पकड़े जा रहे हैं। सांप घरों, कारखानों, दुकानों और अस्पतालों के आईसीयू तक में निकल रहे हैं। जून में रिकॉर्ड सांप पकड़े गए हैं। सांप पकड़ने के लिए रोज 15 से 20 फोन आ रहे हैं। सर्प विशेषज्ञ 4 से 5 सांप प्रतिदिन पकड़े रहे हैं। सर्प विशेषज्ञ सलीम के पास सोमवार शाम तक 30 फोन आए, जिसमें से उन्हें चार जगह सांप पकड़ने में सफलता मिली बाकी जगह सांप भाग निकले। एक और सर्प विशेषज्ञ लखनलाल मालवीय बताते हैं कि जून माह में 50-60 सांप पकड़े हैं। जो जहरीले नहीं होते उन्हें दूर जंगलों में छोड़ आते हैं।

पुराने भोपाल और करोंद क्षेत्र में सक्रीय शाहिद अली ने बताया कि नबी बाग से पांच फीट लंबा कोबरा पकड़ा है। तीन अन्य सांप भी सोमवार को पकड़े हैं। वे बताते हैं कि पानी गिर कर बंद होना और उमस के बढ़ने से सांप ज्यादा निकल रहे हैं। भेल और नए भोपाल में सक्रीय सर्प विशेषज्ञ डॉक्टर जफर ने रविवार देर शाम कस्तूरबा अस्पताल के आईसीयू से 4 फीट का कोबरा पकड़ा है।

वे बताते हैं कि सांपों के ज्यादा निकलने की बड़ी वजह लॉकडाउन है, क्योंकि इस दौरान दो माह तक सन्नाटा फैल जाने से जानवरों ने सुनसान इलाकों में अपनी पहुंच का दायरा बढ़ा लिा था। इसी तरह सांपों ने भी अपनी टेरेटरी बढ़ा ली थी। अब अनलॉक के बाद भी वे वहां आ रहे हैं और मारे जा रहे हैं या पकड़े जा रहे हैं। जून माह में रिकॉर्ड सांप निकले हैं जिनमें से ज्यादातर सांपो को वनविहार और कुछ को आबादी से दूर घने जंगलों में छोड़ दिया गया है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना