भोपाल (नवदुनिया प्रतिनधि)। पाकिस्तान और उससे लगे जम्‍मू-कश्मीर पर बने पश्चिमी विक्षोभ के असर से उत्तर भारत के पहाड़ों पर जबर्दस्त बर्फबारी का सिलसिला बना हुआ है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक वर्तमान में अरब सागर में हवा के ऊपरी भाग में बने एक चक्रवात के कारण मध्यप्रदेश में हवाओं के साथ कुछ नमी आ रही है। इसके चलने बन रहे आंशिक बादलों के कारण न्यूनतम तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हो रही है। दिन और रात के तापमान में अभी दो दिन तक मामूली उतार-चढ़ाव का सिलसिला बना रहने की संभावना है। इसके बाद उत्तर भारत की तरफ से आने वाली सर्द हवाओं के कारण रात के तापमान में तेजी से गिरावट आने लगेगी। इसकी वजह से पूरे मध्य प्रदेश में ठिठुरन बढ़ने के आसार हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्‍ठ विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि पूरे प्रदेश में मौसम शुष्क बना हुआ है। सोमवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 26.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से एक डिग्री से. कम रहा। साथ ही रविवार के अधिकतम तापमान 27.9 डिग्री सेल्‍सियस की तुलना में 1.1 डिग्री सेल्‍सियस कम रहा। न्यूनतम तापमान 14.6 डिग्री सेल्‍सियस रिकार्ड किया गया। यह सामान्य से तीन डिग्री सेल्‍सियस अधिक रहा। साहा ने बताया कि आंशिक बादलों के कारण रात के तापमान में अपेक्षित गिरावट नहीं हो पा रही है।

अरब सागर में बने सिस्टम से मिल रही कुछ नमी

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में अरब सागर में हवा के ऊपरी भाग में करीब डेढ़ किलोमीटर की ऊंचाई पर एक चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम की वजह से हवाओं के साथ कुछ नमी आ रही है। इसके चलते आंशिक बादल बन जाते हैं। इससे रात के तापमान में विशेष गिरावट नहीं हो पा रही है। एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान और उससे लगे जम्मू-कश्मीर पर बना हुआ है। चक्रवात की शक्ल में सक्रिय इस सिस्टम के असर से उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश एवं जम्मू-कश्‍मीर के पहाड़ों पर बर्फबारी का सिलसिला जारी है। उधर आठ दिसंबर को एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में प्रवेश करने की संभावना है। हालांकि इस सिस्टम की आवृति कमजोर होने से इसका विशेष प्रभाव पड़ने की संभावना नहीं है। इसके चलते आठ दिसंबर से मौसम साफ बना रहेगा। साथ ही उत्तर भारत के बर्फ से ढंके पहाड़ों से मैदानी इलाकों की तरफ चलने वाली सर्द हवाओं के कारण मप्र में ठिठुरन बढ़ जाएगी।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local