भोपाल। भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को मालेगांव ब्लास्ट केस में राहत नहीं मिलेगी। स्पेशल एनआई कोर्ट ने उन्हें ये निर्देश दिए हैं कि वो कम से कम हफ्ते में एक दिन कोर्ट में पेश हों। बता दें कि भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने बीमारी का हवाला देकर पेशी से अनुपस्थित रहने की अनुमति मांगी थी। जिसे कोर्ट ने नकार दिया। सांसद प्रज्ञा ठाकुर फिलहाल स्वास्थ्य कारणों की वजह से जमानत पर बाहर हैं। कोर्ट ने मालेगांव ब्लास्ट केस में उन्हें जमानत तो दे दी है, लेकिन अभी दोषमुक्त नहीं किया है। उन पर UAPA ( अनलॉफुल एक्टिविटिज प्रिवेंशन एक्ट) के तहत केस चल रहा है।

29 सितंबर, 2008 में मालेगांव में एक बाइक में बम रख विस्फोट किया गया था। इस हमले 7 लोग मारे गए थे और 100 से ज्यादा घायल हुए थे। सरकार ने मामले की जांच एटीएस को सौंप दी। 24 अक्टूबर, 2008 को इस मामले में स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित सहित और साध्वी प्रज्ञा सिंह को गिरफ्तार किया गया था। 3 आरोपी फरार दिखाए गए थे। बाद में यह जांच एनआईए को सौंप दी गई थी।

बता दें कि, इस बार के लोकसभा चुनाव में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने भोपाल सीट पर कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को करारी शिकस्त दी थी। चुनाव के दौरान साध्वी प्रज्ञा सिंह अपने कई बयानों की वजह से विवादों में रही थी। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को राष्ट्रभक्त बताने वाले उनके बयान पर कड़ी आपत्ति जताई थी।

Posted By: Saurabh Mishra