भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी के चौक-चौराहों, सड़कों और बाजारों पर अतिक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। पुराने शहर ही नहीं, नए शहर में भी गुमठियों और ठेलों की भरमार है। शहर के पॉश इलाकों में भी सड़कों के किनारे बाजार सजने लगे हैं। तेजी से बढ़ते अतिक्रमण से निजात पाने के लिए नगर निगम अब जोनवार अतिक्रमण प्रभारियों की अगुवाई में अतिक्रमण रोधी दस्ता बना रहा है। आने वाले दिनों में 19 जोनों में अलग-अलग अतिक्रमण प्रभारियों की अगुवाई में अमला अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करेगा।

बता दें कि वर्तमान में शहर से अतिक्रमण हटाने की जिम्मेदारी अतिक्रमण अधिकारी कमर साकिब के साथ ही अतिक्रमण प्रभारी नासिर खान और आकाश मिश्रा के कंधों पर है। नासिर खान को नरेला, गोविंदपुरा और उत्तर विधानसभा की जिम्मेदारी दी गई है, जबकि आकाश मिश्रा पर दक्षिण-पश्चिम और मध्य विधानसभा की जिम्मेदारी है। ये दोनों सहायक अतिक्रमण प्रभारी अतिक्रमण अधिकारी कमर साकिब को रिपोर्ट करते हैं। लेकिन आने वाले दिनों में 19 सहायक अतिक्रमण अधिकारी साकिब को रिपोर्ट करेंगे। दरअसल निगम 19 जोनों में अलग-अलग अतिक्रमण प्रभारियों की तैनाती करने जा रहा है।

कार्रवाई के बाद भी क्यों नहीं सिमटता अतिक्रमण

वर्तमान में रोजाना तीन टीमें अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई करती हैं। लेकिन अतिक्रमण कम नहीं होता। दरअसल होता ये है कि टीम जहां भी कार्रवाई करती है, वहां दोबारा कार्रवाई 20 से 15 दिन बाद होती है। ऐसे में अतिक्रमण अमले के जाते ही अतिक्रमण दोबारा हो जाता है। अब जब 19 जोनों में अलग-अलग टीम अतिक्रमण होंगी तो दोन के तहत आने वाले बाजारों, सड़कों और चौक-चौराहों से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई लगभग हर हफ्ते में दो से तीन बार हो सकेगी। ऐसे में अतिक्रमण तेजी से नहीं बढ़ेगा।

एएचओ की तर्ज पर होंगे एईओ

नगर निगम ने साफ-सफाई के लिए प्रत्येक जोन में सहायक स्वास्थ्य अधिकारी (एएचओ) को नियुक्त किया है। जिनकी जिम्मेदारी है कि वह झाड़ू लगवाने से लेकर नाले नालियों की साफ-सफाई कराएं। डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन कर कचरा ट्रांसफर स्टेशनों तक पहुंचाएं। इसी तर्ज पर अब निगम जोनों में असिस्टेंट एन्क्रोचमेंट आॅफीसर (एईओ) की तैनाती कर रहा है। इनकी जिम्मेदारी होगी कि वह जोन के तहत आने वाले वार्डों में आने वाले इलाकों से अतिक्रमण हटाएं और दोबारा न होने दें।

जोनों में सहायक अतिक्रमण प्रभारियों की तैनाती की जानकारी मुझे नहीं है। अगर ऐसा होता है तो अतिक्रमण के खिलाफ प्रभारी कार्रवाई की जा सकेगी। इससे अतिक्रमण पर लगाम लग सकेगी।

- कमर साकिब, अतिक्रमण अधिकारी, नगर निगम

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local