अभिषेक दुबे, भोपाल। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के डायरेक्टर और मध्य प्रदेश के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी ऋषि कुमार शुक्ला 80 सीबीआई अधिकारियों के तबादले को लेकर विवादों में आ गए हैं। सीबीआई के दिल्ली मुख्यालय में पदस्थ डीएसपी एनपी मिश्रा ने शुक्ला पर अनियमितता का आरोप लगाते हुए पीएमओ में शिकायत की है। मिश्रा ने दिल्ली हाई कोर्ट में भी याचिका दायर की है। याचिका की 21 अप्रैल को सुनवाई होगी।

सीबीआई में पांच साल से एक ही ब्रांच में जमे और 10 साल से एक ही स्टेशन पर पदस्थ होने का आधार बनाकर गत माह 80 अधिकारियों के तबादले किए गए थे। डीएसपी मिश्रा ने इसमें अनियमितता का आरोप लगाते हुए याचिका दायर की है।

याचिका में मिश्रा ने कहा कि सीबीआई डायरेक्टर शुक्ला, सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर अजय भटनागर, डिप्टी डायरेक्टर अनुराग (मप्र कैडर के आईपीएस), एसपी मनोज वर्मा, ज्वाइंट डायरेक्टर साई मनोहर (मप्र कैडर के आईपीएस) और ज्वाइंट डायरेक्टर अमित कुमार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'न खाउंगा न खाने दूंगा" के सपने को खत्म कर रहे हैं।

15 साल से जमे अफसरों को बख्शा

मिश्रा का आरोप है कि पांच और 10 साल से एक ही स्थान पर जमे अफसरों के तबादले किए गए हैं, जबकि कई अधिकारी तो ऐसे हैं, जो 15 साल से एक ही स्थान पर जमे हैं। उनके तबादले नहीं किए गए हैं। मिश्रा ने उन अधिकारियों की सूची भी याचिका के साथ लगाई है, जो 15 साल से एक ही स्थान पर जमे हैं।

तबादलों का विशेष ऑडिट हो

मिश्रा ने मांग की है कि जनवरी 2020 में सीबीआई में किए गए तबादलों का विशेष ऑडिट कराया जाना चाहिए। इससे पूरी गड़बड़ी उजागर हो जाएगी। गौरतलब है कि सीबीआई प्रमुख शुक्ला मप्र कैडर के अधिकारी हैं। जनवरी 2019 में राज्य सरकार ने उन्हें डीजीपी पद से हटाया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने उन्हें सीबीआई डायरेक्टर नियुक्त किया।

मिश्रा पहले भी लगाते रहे हैं आरोप

यह पहला मौका नहीं है जब डीएसपी मिश्रा ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों पर आरोप लगाए हैं। इसके पहले भी मिश्रा ने सितंबर 2019 को पीएमओ को पत्र लिखकर सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर एके भटनागर पर झारखंड में 14 लोगों का फर्जी एनकाउंटर करने का आरोप लगाया था।

नो स्टोरीज, नो टॉक

मिश्रा के आरोपों को लेकर सीबीआई डायरेक्टर ऋषि कुमार शुक्ला से पूछा गया तो उन्होंने एसएमएस के जरिए जवाब दिया- 'सॉरी नो स्टोरीज, नो टॉक (कोई स्टोरी नहीं, कोई बात नहीं करना चाहते।)

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket