भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। फरवरी माह में शादियों के मुहूर्त के साथ ही तीज-त्योहार भी रहेंगे। मार्च में गुरु व शुक्र अस्त होने के कारण विवाह नहीं होंगे। इसके बाद विवाह फिर अप्रैल के दूसरे पखवाडा यानी 15 तारीख से शुरू होंगे, जो जुलाई तक रहेंगे। दूसरी ओर साल के दूसरे महीने के पहले पखवाड़े तक तीज-त्योहारों रहेंगे। पंडित जगदीश शर्मा ने बताया कि इस अवधि में मौनी-माघी अमावस्या,गुप्त नवरात्र,बसंत पंचमी सहित अन्य त्योहार रहेंगे। इसके अलावा जनेऊ,नामकरण,मुंडन,नए संस्थान का शुभारंभ,गृह प्रवेश लोग कर सकेंगे। मार्च में गुरु व शुक्र के अस्त रहने के कारण विवाह मुहुर्त नहीं रहेंगे। विवाह के लिए दोनों ग्रहों का उदित रहना जरूरी है, लेकिन धार्मिक अनुष्ठान व तीज-त्योहार मनाए जा सकते हैं।

विवाह मुहुर्त किस महीने में कितने और कब

फरवरी चार से छह ,नो, 10,11, 16 से 21

अप्रैल 15 से 17 , 19 से 23, 27 व 28

मई दो से चार, छह, नो से 20,24 से 26,31

जून एक, पांच से 17, 21 से 23,26

जुलाई दो,तीन,पांच, छह,आठ

(इसके बाद चार नवंबर को देवउठनी एकादशी पर प्रारंभ होंगे।

फरवरी माह में ये त्योहार

एक को मौनी-माघी अमावस्या,दो को गुप्त नवरात्र शुरू होंगे। चार को वरद विनायकी चतुर्थी, पांच को बसंत पंचमी, सरस्वती जयंती, 7 को शीतलाष्टमी,नर्मदा जयंती, 10 को महानंदा नवमी, 12 को को भीष्म एकादशी, 14 को प्रदोष, विश्वकर्मा जयंती, 15 को रामचरण प्रभु जयंती, तेजाजी जयंती, 16 को संत रविदास जयंती और माघ पूर्णिमा रहेगी।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local