भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

पांच साल में रकम दोगुनी करने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाली चिटफंड कंपनी श्रीस्वामी विवेकानंद मल्टी स्टेट क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी ने सात राज्यों में धोखाधड़ी का जाल बिछा रखा था। जांच बढ़ने के साथ धोखाधड़ी की रकम भी 100 करोड़ तक पहुंच सकती है। पुलिस ने तीसरे आरोपित को उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वह मुंबई भागने की फिराक में था। इससे पहले पुलिस मुख्य सरगना विनोद तिवारी और साथी अंगद कुशवाहा को गिरफ्तार कर चुकी है। फिलहाल दोनों पुलिस रिमांड पर हैं।

एएसपी राजेश भदौरिया ने बताया कि तीसरा आरोपित शशांक श्रीवास्तव को उसके अयोध्या नगर स्थित घर से शुक्रवार देर रात दो बजे गिरफ्तार कर लिया। आरोपित भागने की कोशिश में था और सूटकेस लेने घर पहुंचा था। पहले से तैनात पुलिस टीम ने उसे दबोच लिया। वह आनंद नगर पिपलानी की ब्रांच संभालता था। इधर, पुलिस ने बैरागढ़ स्थित आरोपितों के दफ्तर से 15 हजार रुपये और आनंद नगर से तीन हजार रुपये नकदी बरामद की है।

एजेंट को 2-10 फीसद कमीशन

एएसपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि आरोपित विनोद तिवारी और अंगद कुशवाहा ने बताया कि उनका मप्र समेत यूपी, छत्तीसगढ़, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा और मुंबई में नेटवर्क फैला हुआ है। वह एजेंट को ग्राहकों से मिली रकम का 2-10 फीसद कमीशन या 5-20 हजार रुपये मासिक वेतन पर रखते थे। आरोपितों के प्रत्येक दफ्तर में छह-सात कंप्यूटर ऑपरेटर रखे गए थे, जिन्हें सेलरी दी जाती थी। पुलिस की दो टीमें राजस्थान के लिए रवाना की गई हैं।

तीस साल से खोल रहे थे दफ्तर

मप्र के सात जिलों में दो से तीन साल से आरोपित दफ्तर खोल रहे थे। वे अब तक पांच हजार से अधिक लोगों से करीब 50 करोड़ की ठगी कर चुके हैं। अधिकांश पैसा मुंबई मुख्यालय भेजा जाता था।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस