भोपाल/सागर, नवदुनिया प्रतिनिधि। सागर के रहली में स्‍थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ एक एमबीबीएस डॉक्टर के डेंगू की चपेट में आने के बाद हालत गंभीर हो गई है। उनके बेहतर इलाज के लिए स्वजनों के अलावा बीएमसी के डाक्‍टर्स समेत अन्‍य स्‍टाफ ने जिले के लोगों से मदद की अपील की है।

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज से प्राप्त जानकारी के अनुसार शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रहली में पदस्थ डॉक्टर अरविंद पटेल कुछ दिन पूर्व डेंगू से ग्रस्‍त हो गए थे। उन्हें सागर में इलाज से आराम न मिलने पर भोपाल के बंसल हॉस्पिटल में ले जाकर एडमिट किया गया। उनके फेफड़े, किडनी और लीवर पर बहुत असर पड़ा है। फिलहाल वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर है। बेहतर इलाज के लिए हैदराबाद स्थित यशोदा हॉस्पिटल शिफ्ट करने की योजना है, जिसके लिए काफी धनराशि की आवश्यकता है। डॉ पटेल के परिजन उनके इलाज का खर्च वहन करने में सक्षम नहीं हैं। ऐसे में बीएमसी स्‍टाफ ने वीडियो संदेश जारी कर लोगों से आर्थिक मदद की अपील की है।

डॉ सतेंद्र के लिए भी की थी अपील

कोरोना की दूसरी लहर में बीएमसी के चेस्ट रोग विशेषज्ञ डॉ सतेंद्र मिश्रा की कोरोना की चपेट में आने से हालत नाजुक हो गई थी। इस दौरान यहां की डॉक्टरों ने जिले के लोगों से मदद की गुहार लगाई थी। विधायक शैलेंद्र जैन की पहल पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉक्टर के बेहतर इलाज के लिए हरसंभव मदद करने का आश्वासन दिया था। इसके बाद तत्कालीन कलेक्टर दीपक सिंह ने तत्परता दिखाते हुए सागर से भोपाल तक ग्रीन कॉरीडोर तैयार करवाते हुए उन्हे एंबुलेंस से भोपाल भेजा था। वही कलेक्टर सिंह ने एयर एंबुलेंस का खर्चा जमा करने अपने विशेष अधिकारों का प्रयोग करते हुए इंडियन बैंक के अफसरों से रविवार को अवकाश वाले दिन बैंक खुलवाया था और किराया राशि जमा कराई थी। इसके बाद भोपाल से ईयर एंबुलेंस की माध्यम से डॉ सत्येंद्र को हैदराबाद भेजा गया था जिसके बाद उनका उचित इलाज संभव हुआ। फिलहाल वह पुन: मेडिकल कॉलेज में अपनी सेवाएं देने लगे हैं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local