भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी भोपाल समेत मप्र में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदल गया है। सुबह से हल्के बादल छाए हुए है। प्रदेश के कुछ शहरों में बारिश भी हो रही है। दरअसल यह सब हो रहा है बंगाल की खाड़ी एवं अरब सागर में बन रहे वेदर सिस्टम के अलावा एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में दाखिल होने के कारण। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक वेदर सिस्टम के सक्रिय होने से हवाओं के साथ नमी आने लगी है। जिसके चलते बादल छाने लगेंगे। साथ ही प्रदेश के कुछ स्थानों पर अगले चौबीस घंटों में बारिश हो सकती है। इस दौरान कहीं-कहीं ओले भी गिर सकते हैं। मौसम विभाग ने खरगोन, बड़वानी, आलीराजपुर, झाबुआ एवं धार जिलों में हल्‍की बौछारें पड़ने की संभावना जताई है।

मौसम विज्ञान केंद्र के मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि राजधानी भोपाल में बीते चौबीस घंटों के दौरान न्‍यूनतम तापमान 12.2 डिग्री सेल्‍सियस दर्ज किया गया, जो सामान्‍य से 0.7 डिग्री कम रहा। वहीं राजधानी अधिकतम तापमान 26.9 डिग्री सेल्‍सियस दर्ज किया गया, जो सामान्‍य से 0.8 डिग्री सेल्‍सियस कम रहा। पिछले चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश में उमरिया सबसे ठंडा रहा, जहां पारा 08 डिग्री सेल्‍सियस तक लुढ़क गया।

बता दें कि अफानिस्तान और पाकिस्तान के बीच बना पश्चिमी विक्षोभ मंगलवार को उत्तर भारत में पहुंच गया है। श्रीलंका पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम से पूर्व-मध्य अरब सागर तक एक ट्रफ बना हुआ है। पूर्व-मध्य अरब सागर में बुधवार को एक कम दबाव का क्षेत्र बना चुका है। उधर बंगाल की खाड़ी में भी कम दबाव का क्षेत्र बन गया है।

इन वेदर सिस्टम के सक्रिय हाेने से बुधवार को मध्य प्रदेश में मौसम के मिजाज में परिव‍र्तन आया है। मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिेष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वातावरण में हवाओं के साथ नमी आने से गुरुवार तक इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं बारिश भी हो सकती है। राजधानी भोपाल में भी गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार हैं।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close