Nautapa 2022: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। इस बार बुधवार 25 मई से नौपता शुरू हो रहे हैं। नौतपा के दौरान गर्मी और उमस बढ़ जाएगी। जिससे जमीन ज्यादा तपेगी और धरती की उर्वरता और बढ़ेगी। इसी नौतपा में गर्मी अधिक होने से वर्षा ऋतु में होने वाली बारिश ज्यादा होगी। नवग्रह के राजा सूर्य देव नक्षत्र मेखला की गणना के अनुसार 25 मई को दोपहर तकरीबन तीन बजे रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। इस नक्षत्र में आठ जून का रहेगा। इनमें से पहले नौ दिन नौतपा कहलाते हैं। ये समय आने वाली वर्षा ऋतु के चक्र को मजबूत करने में बहुत खास माना जाता है। इससे नौतपा में गर्मी उमस और बढ़ेगी। मान्यता है कि इन दिनों आम गर्मी के दिनों से ज्यादा गर्मी पड़ती है।

अच्छी बारिश होने के योग

पंडित रामजीवन दुबे ने बताया कि इस साल रोहिणी का निवास समुद्र में रहेगा और समय का वास माली के घर होने से प्रजा में सुख, वैभव, बढ़ोतरी होगी। समय अनुसार बारिश होगी किसानों को खुशहाल बनाएगा। वर्षा उत्तम रहेगी। धान्य आदि का उत्पादन बढ़ेगा। धान्यदि के साथ, खाद्य पदार्थ में स्थिरता बनी रहेगी। रोहिणी यह स्थिति वर्षा ऋतु में उत्तम वृष्टि का संकेत दे रही है।

नवतपा के शुरुआती छह दिन रहेंगे तेज गर्मी भरे दिन

नवतपा के शुरुआती छह दिन तेज गर्मी के साथ उमस परेशानी पैदा करेगी। गर्म हवाओं के चलने से सूर्यास्त के बाद भी गर्मी महसूस होगी। आखिरी तीन दिन में तेज हवाओं के साथ बूंदाबांदी और देश में कुछ जगहों पर हल्की-फुल्की बारिश के भी योग बनेंगे।

ऐसे समझें नौतपा को

हर साल सूर्य 25-26 मई को रोहिणी नक्षत्र में आता है। इस नक्षत्र में 15 दिनों तक रहता है। लेकिन शुरुआती नौ दिनों में सूर्य वृष राशि में तकरीबन 10 से 17 डिग्री तक होता है। जिससे पृथ्वी पर सूर्य का प्रभाव ज्यादा रहता है। इसलिए इसे नौतपा कहते हैं। मई के आखिरी हफ्ते में पृथ्वी पर सूर्य की किरणें ज्यादा समय तक रहती है। इस दौरान 12 की बजाय करीबन 14 घंटे का दिन होता है। इसके चलते तापमान बढ़ता है। इस अधिक तापमान के कारण मैदानी क्षेत्रों में निम्न दबाव का क्षेत्र बनता है, जो समुद्र की लहरों को आकर्षित करता है। इस कारण कई जगह पर तूफान और बारिश जैसे आसार बनते दिखाई देते हैं।

नौतपा में ऐसी रहेगी ग्रहों की स्थिति

नौतपा आरंभ होने के पहले मेष राशि में राहु-शुक्र की युति, वृषभ राशि में सूर्य-बुध की युति, मीन राशि में मंगल-चंद्र और गुरु की युति रहेगी। कुंभ राशि में शनि रहेगा। केतु तुला राशि में रहेगा। राहु-शुक्र की केतु पर दृष्टि रहेगी। 26 मई की रात चंद्र का राशि परिवर्तन होगा और मीन राशि की तीन ग्रहों की युति समाप्त हो जाएगी।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close