Tokyo Olympics: ( नवदुनिया प्रतिनिधि )। भारतीय महिला हॉकी टीम ने टोक्‍यो ओलिंपिक में अपने चमत्‍कारिक खेल से पूरे देश का मान बढ़ाया है। तीसरी बार ओलिंपिक मे भागीदारी कर रही महिला टीम पहली बार पदक की दौड़ में शामिल हुई है। बुधवार शाम को जब भारतीय टीम अर्जेन्‍टीना के खिलाफ सेमीफाइनल में उतरेगी तो एक बार फिर सभी की निगाहें ओलिंपिक इतिहास में हैट्रिक जमाने वाली मप्र के लिए खेल चुकी वंदना कटारिया पर होगी। इसके अलावा सुशीला चानू और मोनिका मलिक ने भी अपने खेल से अब तक प्रभावित किया है।

इस भारतीय टीम में तीन खिलाड़ी मध्‍य प्रदेश राज्‍य अकादमी ग्‍वालियर के मुख्‍य कोच परमजीत सिंह बरार से प्रशिक्षण प्राप्‍त कर चुकी हैं। इसमें मोनिका मलिक, सुशीला चानू और वंदना कटारिया हैं। मोनिका व सुशीला मध्‍य प्रदेश महिला हॉकी अकादमी में रही हैं, वहीं वंदना भारतीय खेल प्राधिकरण (साई ) भोपाल में रही हैं। परमजीत ने कहा कि भारतीय महिला टीम लय में लौट चुकी है। अब उसे रोकना मुश्किल है। जिस तरह से उन्‍होंने आस्‍ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को क्‍वार्टर फाइनल में पटखनी दी है, उसी तरह अर्जेन्‍टीना को भी हरा सकती है। टीम को एकजुट और पूरे आत्‍मविश्‍वास के साथ मैदान पर उतरना होगा।

भारतीय महिला हॉकी टीम का ओलिंपिक में अब तक सफर

पहला मुकाबला नीदरलैंडस से 1-5 से हारी

दूसरा मैच जर्मनी से 0-2 से हारी

तीसरा मैच ग्रेट ब्रिटेन से 1-4 से हारी

चौथा मैच आयरलैंड से 1-0 से जीती

पांचवा मैच दक्षिण अफ्रीका से 4-3 से जीती

क्‍वार्टर फाइनल में आस्‍ट्रेलिया से 1-0 से जीती

मोनिका मलिक

मिडफील्ड खिलाड़ी

मूल निवासी चंडीगढ़

मध्य प्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी ग्वालियर में 2010-11 तक प्रशिक्षणरत रही। वर्तमान में सेंट्रल रेलवे मुंबई में टीसी है।

सुशीला चानू

मिडफील्ड खिलाड़ी

मूल निवासी मणिपुर

मध्य प्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी ग्वालियर में 2006-07 से 2010-11 तक प्रशिक्षणरत रही।

वर्तमान में सेंट्रल रेलवे मुंबई में टीसी है।

वंदना कटारिया

फारवर्ड खिलाड़ी

भारतीय खेल प्राधिकरण साई, भोपाल में रही

वर्तमान में रेलवे में कार्यरत

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local