Tokyo Olympics: भोपाल ( नवदुनिया प्रतिनिधि )। टोक्‍यो ओलिंपिक में पीवी सिंधु ने बैडमिंटन में कांस्‍य पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। सिंधु लगातार दो ओलिंपिक पदक जीतने वाली देश की पहली महिला खिलाड़ी बन गई है। पांच साल पहले 2016 रियो ओलिंपिक में पीवी सिंधु रजत पदक जीता था। उन्‍हें इस उपलब्धि पर मप्र के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में आयोजित शिखर खेल अलंकरणा समारोह में 50 लाख की सम्‍माननिधि भेंट कर सम्‍मानित किया था। उनके साथ कार्यक्रम में उन‍की माता विजया व कोच पुलेला गोपीचंद शामिल होने आए थे। इस कार्यक्रम में प्रदेश की खेलमंत्री यशोधरा राजे सिंधिया और तत्‍कालीन खेल संचालक उपेन्‍द्र जैन मौजूद थे।

राजधानी के तात्‍या टोपे स्‍टेडियम में 10 नवंबर 2016 को शिखर खेल अलंकरण समारोह आयोजित हुआ था। इस कार्यक्रम में प्रदेश के उत्‍कृष्‍ट सीनियर व प्रतिभाशाली जूनियर खिलाडि़यों के साथ प्रशिक्षकों को भी मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्‍मानित किया था। इस कार्यक्रम में भाग लेने आई पीवी सिंधू ने इस मौके पर अकादमी के खिलाडि़यों से मुलाकात कर उन्‍हें प्रोत्‍साहित किया था। अब सिंधू ने टोक्‍यो ओलिंपिक में भी देश के लिए पदक जीतकर देश का नाम रोशन किया है।

उल्‍लेखनीय है कि टोक्‍यो ओलिंपिक शुरू होने से पहले ही पीवी सिंधू को स्‍वर्ण पदक का दावेदार माना जा रहा था। सेमीफाइनल मे चीनी ताइपे खिलाड़ी के खिलाफ हारने के बाद वह स्‍वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गई थी, लेकिन रविवार को सभी को सिंधू से कांस्‍य पदक की उम्‍मीद थी। सिंधू ने सभी की उम्‍मीदों पर खरा उतरते हुए कांस्‍य पदक जीत लिया है।

कोरोना काल के कारण अभ्‍यास प्रभावित हुआ

बैडमिंटन कोच रश्मि मालवीय ने कहा कि सिंधू ने पूरे देश का नाम रोशन किया है। कोरोना काल नहीं होता तो महिला बैडमिंटन का स्‍वर्ण पीवी सिंधू के नाम होता। कोरोना के कारण टूर्नामेंट खेलने को नहीं मिले और कोचिंग की समस्‍या भी उनके साथ रही है। उन्‍होंने बताया कि 2016 में शिखर खेल समारोह में उन्‍हें सम्‍मानित किया था। तब उन्‍होंने बैडमिंटन खिलाडि़यों के साथ बहुत ही सहजता से मिली थी। मैं पूरे समय उनके साथ थी।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local