Tokyo Olympics: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय पुरुष हॉकी टीम का क्‍वार्टर फाइनल मुकाबला रविवार को ग्रेट ब्रिटेन से होगा। इस मुकाबले में सभी की निगाहें मध्‍य प्रदेश हॉकी अकादमी में प्रशिक्षण ले चुके विवेक सागर प्रसाद और नीलाकांता शर्मा पर होंगी। विवेक ने अर्जेन्‍टीना और नीलाकांता ने जापान के खिलाफ शानदार गोल कर भारतीय टीम को ग्रुप 'ए' में दूसरे स्‍थान पर पहुंचाने में अहम योगदान दिया था।

भारतीय टीम ने पहले मुकाबले में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ जीत से अपने विजयी अभियान की शुरुआत की थी। इसके बाद दूसरे मुकाबले में जिस तरह से भारतीय टीम को ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ 1-7 से हार मिली थी। तब किसी को भी उम्‍मीद नहीं थी कि भारत इस तरह से वापसी करेगा। लेकिन भारतीय टीम ने अगले मैच में स्‍पेन को 3-0 से हराकर वापसी की। इस मुकाबले में भी हमारे विवेक सागर और नीलाकांत ने शानदार प्रदर्शन किया था। चौथे मैच में अर्जेन्‍टीना के खिलाफ विवेक ने और पांचवें लीग मुकाबले में जापान के खिलाफ नीलाकांता ने बेहतरीन गोल करते हुए टीम इंडिया की पदक दावेदारी को और पुख्‍ता कर दिया है।

ओलिंपियन व मप्र राज्‍य हॉकी अकादमी के पूर्व कोच अशोक ध्‍यानचंद ने कहा कि यह दोनों खिलाड़ी भारत को पदक दिला सकते है। मैदान पर इनकी जुगलबंदी शानदार है। खेलों के विशेषज्ञ जोस चाको ने कहा कि विवेक और नीलाकांत ने गोल भले ही अंतिम दो मुकाबलों में किए हों, लेकिन सभी मैचों में दोनों ने अपने खेल से प्रभावित किया है।मप्र हाकी अकादमी के कोच लोकेंद्र शर्मा ने बताया कि इन दोनों के साथ कप्‍तान मनप्रीत की तिकड़ी मिड फील्‍ड में शानदार खेल रही है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local