Tokyo Olympics:भोपाल ( नवदुनिया प्रतिनिधि )। टोक्‍यो ओलिंपिक में गुरुवार को एमसी मैरीकाम की अप्रत्‍याशित हार के कारण देशवासियों को निराशा मिली थी। लेकिन शुक्रवार की सुबह महिला मुक्‍केबाज लवलीना बोरगेहेन ने अपना मुकाबला जीत सेमीफाइनल में प्रवेश करते हुुुए देशवासियों के चेहरे पर पुन: मुस्‍कान बिखेर दी। इस जीत के साथ्‍ लवलीना ने भारत के लिए दूसरा ओलिंपिक पदक पक्‍का कर लिया है। लवलीना की इस सफलता से मप्रवासी भी खासे खुश नजर आ रहे है। दरअसल लवनीना वर्ष 2015 मे भोपाल में आयोजित एक कैंप में भाग लेने आई थी।

मध्‍य प्रदेश बॉक्सिंग अकादमी के मुख्‍य कोच रोशनलाल ने बताया कि वर्ष 2015 में भारतीय जूनियर व सब जूनियर बॉक्सिंग टीम का कैंप भोपाल के भारतीय खेल प्राधिकरण (साई ) सेंटर पर आयोजित हुआ था। उस समय भारतीय टीम चीनी ताइपे में होने वाली वर्ल्‍ड चैंपियनशिप की तैयारी कर रही थी। इस कैंप में असम की लवनीना ने भी हिस्‍सा लिया था। कोच रोशन लाल ने बताया कि लवनीना का लंबा कद और विरोधी पर आक्रामक अंदाज से हमले करना उसकी ताकत है। उसमे सीखने की बहुत ललक थी। कैंप में भी हमेशा सक्रिय रहती थी। अभी तो उसने कांस्‍य पदक पक्‍का किया है, वह इसे स्‍वर्ण व रजत पदक में भी बदल सकती है।

लवनीना का पदक तक का सफर

69 किग्रा भार वर्ग में लवलीना बोरगोहेन ने अपने पहले मुकाबले में बाई मिला था। दूसरे मुकाबले में लवलीना ने जर्मनी की नादिने आपेटस को 3-2 से पराजित किया। दूसरे मुकाबले में लवीलीना ने चीनी ताइपे की चेन निऐन चिन को 4-1 से शिकस्‍त देकर सेमीफाइनल प्रवेश कर लिया है । अब सेमीफाइनल में उसका मुकाबला तुकी की बु‍सेनाज सुरमेनेली से चार अगस्‍त को होगा।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close