भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि, Habibganj Railway Station। हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर फरवरी 2021 से ट्रेनों की धुलाई ऑटोमेटिक वाशिंग मशीनों से होगी। इसके लिए ऑटोमेटिक वाशिंग पिट लाइन का काम शुरू हो गया है, यह लाइन प्लेटफॉर्म-पांच की तरफ पार्सल कार्यालय के पास बनाई जा रही है, जो 70 मीटर लंबी होगी। इस लाइन पर 24 कोच वाली एक ट्रेन 15 मिनट में बाहर से धुल जाएगी। अभी यह काम सफाई कर्मी करते हैं। इस तरह एक ट्रेन को चार सफाईकर्मी चार से पांच घंटे में धोते हैं। सबसे बड़ी बचत पानी की होगी। अभी एक ट्रेन के धुलने में अधिकतम 15 हजार लीटर पानी लग जाता है, जब यही ट्रेन मशीन से धुलेगी तो तीन से पांच हजार लीटर पानी में काम हो जाएगा। इस तरह एक ट्रेन की धुलाई में 10 हजार लीटर पानी बचेगा। अभी हबीबगंज में सप्ताह में छह ट्रेनें धुलती हैं। ट्रेनों के अंदर की धुलाई सफाईकर्मी ही करेंगे। ट्रेनों का मेंटेनेंस अलग पिट लाइनों पर होगा। अभी हबीबगंज में दो पिट लाइन पहले से है, तीसरी बनाई जा रही है।

लागत दो करोड़, फरवरी में चालू होगी

भोपाल रेल मंडल के अधिकारियों ने बताया कि ऑटोमेटिक पिट लाइन की लागत दो करोड़ रुपये है। यह लाइन फरवरी 2021 में चालू हो जाएगी।

ऐसे होगी ट्रेनों की धुलाई

रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिट लाइन से ट्रेन को बहुत ही धीमी रफ्तार से आगे बढ़ाया जाएगा। इस दौरान दोनों तरफ लगे ब्रश कोच के बाहरी हिस्सों पर चलेंगे, प्रेशर पंपों से पानी का छिड़काव होते जाएगा। इस तरह ट्रेन 15 मिनट में साफ हो जाएगी। इसी बीच जिन सफाईकर्मियों को कोच के बाहरी हिस्से की सफाई करने लगाते थे, उनकी संख्या अंदर बढ़ा देंगे तो जल्दी सफाई हो जाएगी।

ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी, इसलिए कर रहे तैयारी

हबीबगंज स्टेशन जल्द ही विश्वस्तरीय सुविधा वाले स्टेशन में तब्दील होगा। अभी काम अंतिम चरण में चल रहा है। तब स्टेशन से गुजरने व चलने वाली ट्रेनों की संख्या बढ़ाई जानी है। ऐसे में अधिक ट्रेनों की धुलाई व सफाई का जिम्मा आ जाएगा। रेलवे इसके लिए अभी से तैयारी कर रहा है।

हबीबगंज में होती है इन ट्रेनों की धुलाई

हबीबगंज-हजरत निजामुद्दीन भोपाल एक्सप्रेस, हबीबगंज-जबलपुर जनशताब्दी एक्सप्रेस, हबीबगंज-रीवा रेवांचल एक्सप्रेस, हबीबगंज-संतारागाछी हमसफर साप्ताहिक एक्सप्रेस, हबीबगंज-अगरतला साप्ताहिक एक्सप्रेस, हबीबगंज-पुणे साप्ताहिक हमसफर एक्सप्रेस।

हमारी कोशिश है कि ऑटोमेटिक वाशिंग पिट लाइन जल्दी चालू हो जाए, ताकि ट्रेनों की जल्दी धुलाई हो और पानी की बचत भी हो। रेलवे इस काम को विशेष तवज्जो दे रहा है। अभी इस तरह की वाशिंग पिट लाइन बहुत कम रेल मंडलों में है। - उदय बोरवणकर, डीआरएम भोपाल रेल मंडल

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस