भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। पिपलानी के खजूरी कलां में स्थित एसओएस बालग्राम से दो बच्चे के अगवा

होने का मामला सामने आया है, पुलिस ने मामले की शुरुआत में गुमशुदगी दर्ज की थी। बाद में मामले की गंभीरता को देखते हुए। अपहरण का मामला दर्ज किया है। घटना शनिवार दोपहर बारह बजे की है। इधर, पुलिस का इस पूरे मामले में छिपाने में लगी हुई है, मामले में दो बच्चों की तलाश शुरू कर दी है।

पिपलानी पुलिस के अनुसार एसओएस बालग्राम के शेखर मलका ने पिपलानी थाने में शिकायत की है कि उनके यहां से 12 और 14 साल के दो बच्चे गायब हैं। इस पर पिपलानी पुलिस ने इस मामले को हल्के में मिला और गुमशुदगी दर्ज की। बाद में पूरे मामले की जांच शुरू कर मामले में दो 24 घंटे बाद अज्ञात आरोपित के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया गया है।

क्या है बाल ग्राम

एसओएस (सेव अवर सॉल) बाल ग्राम में बेसहारा व गरीब परिवारों के बच्चे रहते हैं। बच्चों के भोजन से लेकर पढाई तक की व्यवस्था बाल ग्राम में ही होती है। भारत का पहला बाल ग्राम फरीदाबाद में ही बनाया गया है। 1967 में यह बनकर तैयार हुआ। अभी इस बालग्राम में सौ के आसपास बच्चे रहते हैं। यहां से बच्चे के गायब होने का सिलसिला अक्सर सामने आते रहे हैं। इस पूूरे मामले में एसओएस बालग्राम से दो बच्चों की जानकारी मीडिया को नहीं दी जा रही है। नवदुनिया संवाददाता ने एसओएस बालग्राम के संचालक विपिन दास से पूरे मामले को लेकर बात की तो उन्होंने पहले तो फोन नहीं उठाया। बाद में उन्होंने अपना फोन अपनी किसी सहयोगी को दे दिया। जब इस पूरे मामले को लेकर बात की गई तो उन्होंने बच्चों के बारे में बाद जानकारी देने की बात कहकर फोन काट दिया। इस पूरे मामले में पुलिस जांच में लगी है।

पुलिस भी जानकारी देने में कर रही आनाकानी

एसओएस बालग्राम में दो बच्चों के गायब होेने में पिपलानी पुलिस भी मामले को दबाने में लगी है। जांच अधिकारी कुलदीप खरे ने मामले में बात की, लेकिन दो बच्चों की जानकारी देने में से मना कर दिया।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local