भोपाल। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के दो कांग्रेस विधायकों (Congress MLA) ने बड़े बयान दिए हैं। मंदसौर जिले के सुवासरा से विधायक हरदीपसिंह डंग (MLA Hardeep singh Dang) ने कहा कि पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि देशों के दुखी लोगों को अगर भारत में सुविधाएं मिलती हैं तो इसमें बुराई क्या है। उधर, वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और विधायक लक्ष्मण सिंह (MLA Laxman Singh) ने ट्वीट कर सीएए (CAA) का विरोध करने वालों को सलाह दी है कि नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Law) की राजनीति बंद करो। रविवार को सीतामऊ में विधायक डंग ने कहा कि पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि देशों के दुखी लोगों को अगर भारत में सुविधाएं मिलती हैं तो इसमें बुराई क्या है। विधायक के इस जवाब पर जब सवाल उठाया गया कि इसका अर्थ यह हुआ आप सीएए का समर्थन करते हैं, तो डंग बोले कि सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) को अलग-अलग देखने की जरूरत है। डंग पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एनआरसी के नाम पर कई पीढ़ियों से जो लोग रह रहे हैं, उनसे प्रमाण मांगना गलत है।

अब सीएए और एनआरसी को जोड़कर क्यों देखा जा रहा है?

एक सवाल के जवाब में डंग ने कहा कि पहले भी पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया व मैंने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन किया था। अब सीएए और एनआरसी को जोड़कर क्यों देखा जा रहा है? सीएए व एनआरसी दोनों अलगअलग मुद्दे हैं, जिन्हें एक रूप में नहीं देखा जा सकता है। लोगों को इनकी पूरी जानकारी नहीं होने से भ्रांति फैल रही है। केंद्र सरकार विसंगतियों को दूर कर दोनों मुद्दों को अलग-अलग परिभाषित करे।

रस्सी को ज्यादा खींचने से वो टूट जाती है

सीएए को लेकर लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर विरोध करने वालों को सलाह देते हुए कहा है कि नागरिकता कानून की राजनीति बंद करो। राजगढ़ जिले के चांचौड़ा से विधायक लक्ष्मण सिंह ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कहा है कि मुसलमान कह रहे हैं कि हमारे रोजगार की व्यवस्था करो। रस्सी को ज्यादा खींचने से वो टूट जाती है। गौरतलब है कि लक्ष्मण सिंह ने इससे पहले 13 दिसंबर को भी ट्वीट कर सीएए पर कहा था कि संसद में कानून पारित हो चुका है और सभी राजनीतिक दल अपने विचार व्यक्त कर चुके हैं। इस विषय पर ज्यादा टिप्पणी, बयान व्यर्थ है। इसे स्वीकार करो और आगे बढ़ो।

Posted By: Prashant Pandey

fantasy cricket
fantasy cricket