भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश के यूजी व पीजी कालेजों में प्रवेश प्रक्रिया की अंतिम तारीख खत्म हो चुकी हैं। इस साल प्रदेश के 1301 निजी और सरकारी कालेजों में छह लाख 58 हजार विद्यार्थियों के प्रवेश हुए हैं। इसमें से करीब 85 हजार विद्यार्थी अपने कोर्स को बदल चुके हैं। करीब साढे पांच लाख विद्यार्थी अपना कोर्स बदलना चाहते हैं तो विभाग ने उन्हें 10 दिसंबर तक का समय दिया है। विद्यार्थी आनलाइन के साथ आफलाइन भी विकल्प दे सकते हैं। उच्च शिक्षा विभाग के कालेज और विश्वविद्यालय की प्रवेश प्रक्रिया पर विराम लगा गया है। प्रवेशरत छह लाख 58 हजार विद्यार्थी मुख्य, गौण, वैकल्पिक विषय एवं व्यवसायिक पाठ्यक्रम आदि में परिवर्तन के लिए आवेदन कर सकेंगे। छात्र द्वारा निर्धारित प्रारूप में आवेदन प्रस्तुत कर विषय परिवर्तन मुख्य, गौण, इलेक्टिक, वोकेशनल एवं फील्ड प्रोजेक्ट आदि संबंधी कार्रवाई की जा सकती है। विद्यार्थी चाहे तो एमपी आनलाइन के पोर्टल के माध्यम से भी विषय परिवर्तन संबंधी आवेदन कर सकते हैं, लेकिन कक्षा परिवर्तन संबंधी कार्यवाही के लिए छात्र को कालेज में उपस्थित होना अनिवार्य है। पहले में कोर्स बदलने वाले करीब 85 हजार विद्यार्थी दोबारा से कोर्स बदलने की प्रक्रिया में भागीदारी नहीं कर सकते हैं, क्योंकि उन्हें एक बार कोर्स बदलने की स्वीकृति दी जा चुकी है।

कालेज में आने के लिए

कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा प्रथम चरण में प्रदेश के 45 प्लस के एवं द्वितीय चरण में 18 प्लस के नागरिकों को वैक्सीन लगवाना अनिवार्य है, जो विद्यार्थी 30 अक्टूबर 2021 को 18 वर्ष की आयु पूर्ण नहीं किए हैं। ऐसे विद्यार्थियों को टीकाकरण न होने की स्थिति में भी कालेज आने की अनुमति प्रदान की जाती है। विभाग ने कोर्स बदलने नियम तैयार किए हैं। इसके तहत सत्र 2021-22 कक्षा विषय परिवर्तन के लिए आवेदन का निर्धारित प्रारूप पत्र में होना अनिवार्य है। आवेदन का प्रारूप उच्च शिक्षा विभाग के नवीन निर्देश पर एमपी आनलाइन पोर्टल पर मौजूद रहेगा।प्रत्येक कालेज द्वारा आवेदन पत्र का प्रारूप छात्रों को उपलब्ध कराना अनिवार्य है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local