भोपाल (राज्य ब्यूरो)। मध्य प्रदेश की नई शराब नीति को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती शनिवार रात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलीं। उन्होंने नीति को लेकर मुख्यमंत्री को दिए सुझावों को ज्यों का त्यों लागू करने की मांग की है। मुलाकात के बाद उमा ने ट्वीट कर कहा कि मैं भाजपा, सरकार या शिवराज जी की विरोधी नहीं हूं, मैं सिर्फ शराब की दुश्मन हूं और गंगा की भक्त हूं। उन्होंने कहा है कि शराब नीति अधिकारियों को तो सिर्फ लागू करना है। परामर्श तो जन समाज से करना है।

शराब नीति के संबंध में सीएम से करेंगी बात

महिलाओं की सुरक्षा और नौजवानों के भविष्य की चिंता करनी है। पांच दिन बाद वह शराब नीति के संबंध में फिर मुख्यमंत्री से बात करेंगी। उन्होंने कहा कि नशामुक्ति अभियान के शुभारंभ के दौरान दो अक्टूबर को भोपाल में शिवराज ने सबसे परामर्श के बाद ही शराब नीति घोषित करने की बात कही थी।

शराब की बोतल में इसके नुकसान बताएं

बता दें कि उमा ने करीब 10 दिन पहले मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर नीति के संबंध में कुछ सुझाव दिए थे। इसमें सबसे मुख्य यह कि शराब की बोतल में इसके नुकसान बताए जाएं। शैक्षणिक संस्थानों से एक किमी से पहले शराब की दुकान न हो। अहाते बंद किए जाएं, क्योंकि लोग शराब पीकर वाहन चलाते हैं तो दुर्घटना का खतरा रहता है।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close