- पक्षियों और तितलियों को भी पहचानना सीखा

-

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बाघ, तेंदुआ और भालू जैसे वन्य बड़े वन्य प्राणियों को देख चूनाभट्टी स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के बच्चे उत्साहित हुए। वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में मंगलवार को छात्रों के मन में वन, वन्य प्राणियों और पर्यावरण के प्रति जागरूकता जगाने के लिए पर्यावरण शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में विद्यालय के 38 बच्चों को पक्षियों और वन्य प्राणियों के साथ जंगल के बारे में भी जानकारी दी गई। इस अवसर पर पूर्व उपवन संरक्षक एके खरे, डा. संगीता राजगीर और भोपाल बर्ड्स के मो. खालिक ने बचों के सवालों के जवाब दिए। भोपाल और उसके आस-पास के गांवों के शासकीय विद्यालयों के छात्रों को एक दिवसीय शिविर के माध्यम से पर्यावरण के प्रति जागरूक किया जा रहा है।

इन पक्षियों को की पहचान :

भ्रमण के दौरान बच्चों ने किंगफिशर, वूली नेक स्टार्क, ड्रोंगो, सिल्वर बिल मुनीया, राबिन, कार्मोरेंट, लेसर विसलिंग टील, इग्रेट, रेड मुनिया, ग्रीन बी ईटर, बुलबुल, ब्लैक रेड स्टार्ट, एशी प्रीनिया, जकाना, डब, हेरोन, रोलर प्रजाति के पक्षियों के साथ कामन टाईगर, स्ट्रिप्ड टाईगर, ब्लू टाईगर, कामन ग्रास यलो, ग्रे पेनसी एवं कामन इंडियन क्रो जैसी तितलियों को पहचानना सीखा। वहीं बड़े वन्य प्राणियों के साथ मगर, घड़ियाल, चीतल, सांभर, नीलगाय जैसे वन्यप्राणियों काे भी बच्चों ने पास से देखा। शिविर के दौरान वन विहार की संचालक पदमप्रिया बालाकृष्णन, सहायक संचालक सुनील कुमार सिन्हा सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

बच्चों को जागरूक करने के लिए लगा रहे हैं कैंप :

वन विहार के सहायक संचालक सुनील कुमार सिन्हा ने बताया कि बच्चों को जागरूक करने के लिए लगातार इस तरह के कैंपों का संचालन किया जा रहा है। इन कैंपों में बच्चों को प्राकृतिक वातावरण में रह रहे वन्य प्राणियों को पास से दिखाया जाता है और संकटग्रस्त प्रजातियों की जानकारी दी जाती है। अगले सप्ताह 13 दिसंबर को नेहरू नगर स्थित शासकीय नवीन कन्या हाईस्कूल की छात्राओं काे शिविर के लिए बुलाया गया है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close